बुधवार, 1 जनवरी 2020

"नववर्ष का शुभारम्भ "-एक विनम्र प्रार्थना के संग 



एक विनम्र प्रार्थना सर्वशक्तिमान परमात्मा से 
          

   परमात्मा से प्रार्थना तो हम रोज ही करते हैं ,परन्तु उस प्रार्थना में हम ईश्वर से कुछ ना कुछ माँगते ही रहते हैं ,सुख -समृद्धि ,यश -कृति ,संतान-परिवार ,खुशियाँ-स्वस्थ और भी बहुत कुछ । लेना या माँगना ही हमारी प्रवृति हैं ,कभी कुछ देने की चाह ही नहीं होती। ये सच हैं कि - माँगना ही हमारी प्रवृति हैं और ईश्वर से नहीं माँगेगें तो और किससे माँगेगें । परन्तु माँगने के साथ साथ देने की प्रवृति भी होनी ही चाहिए न । 
तो चलें ,इस नववर्ष में ईश्वर से कुछ नया माँगते हैं और साथ ही साथ प्रभु से कुछ वादें भी करतें हैं -" अज्ञानतावश  अपने तन-मन ,देश-समाज ,प्रकृति और पर्यावरण का हमनें  जो भी नुकसान किया हैं उसका ईश्वर से क्षमा माँगते हुए ,उन्होंने हमें जो कुछ भी दिया हैं उसका धन्यवाद कर ,हम उनसे कुछ वादें करतें हैं। हे प्रभु ,आपने हमें ये जो मानव तन दिया हैं उसके लिए आपको कोटि कोटि धन्यवाद ,आपकी दी हुई इस मानव तन की रक्षा करना ,इसे स्वस्थ रखना हमारा पहला कर्तव्य हैं। साथ ही साथ आपकी इस अनमोल सृष्टि और सृष्टि से जुड़े प्रत्येक जीवधारी का संरक्षण भी हमारा ही कर्तव्य हैं। इस समाज ,सभ्यता और देश के प्रति भी हम अपने कर्तव्य के लिए सजग हैं। हे प्रभु ,हमें वो शक्ति दे कि हम अपने वादें को निभा सकें और अपने कर्तव्य पथ पर डटें रहें ......."

वह शक्ति हमें दो दयानिधि कर्तव्य मार्ग पर डट जाएँ  
पर सेवा पर उपकार में हम ,निज जीवन सफल बना जाएँ 
वह शक्ति....... 

हम दिन दुखी निर्बलों -विकलों ,के सेवक बन संताप हरे 
जो हो भूले भटकें -बिछुड़े ,  उनको तारे  खुद तर जाएँ 
वह शक्ति ......

छल द्वेष- दंभ ,पाखंड -झूठ ,अन्याय से निस दिन दूर रहें 
जीवन हो शुद्ध सरल अपना ,सूचि प्रेम सुधा रस बरसाए 
वह शक्ति .......

निज आन -मान मर्यादा का ,प्रभु ध्यान रहें  अभिमान रहें 
जिस देवभूमि पर जन्म लिया बलिदान उसी पर हो जाएँ 
वह शक्ति 

वह शक्ति हमें दो दयानिधि कर्तव्य मार्ग पर डट जाएँ  
पर सेवा पर उपकार में हम ,निज जीवन सफल बना जाएँ 

हम इस धरा पर फिर से सुख ,शांति और समृद्धि ला सकें, इस नए संकल्प के साथ हम इस नववर्ष का स्वागत करते हैं। आप सभी को भी नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं ,नववर्ष मंगलमय हो। 

21 टिप्‍पणियां:

  1. अत्यन्त सुन्दर संकल्पों से सुसज्जित अति उत्तम आलेख कामिनी जी । ईश भक्ति की प्रार्थना ने स्कूली दिनों की याद दिला दी । आपको भी नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं ,नववर्ष मंगलमय हो।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सहृदय धन्यवाद मीना जी ,सही कहा उन्हीं निश्छल दिनों को याद कर मैंने ये प्रार्थना लिखी थी ,आपको भी नव वर्ष की हार्दिक बधाई ,देरी से आने के लिए माफी चाहती हूँ ,सादर नमन

      हटाएं
  2. नमस्ते,

    आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" में गुरुवार 02 जनवरी 2020 को साझा की गयी है......... पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!



    1630...कुछ ऊबड़-खाबड़ लिखा जाता है सामाजिक विषमताओं के घने अंधेरों पर...


    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. मेरे लेख को स्थान देने के लिए हृदयतल से आभारी हूँ ,साथ ही साथ क्षमा चाहती हूँ कि कुछ व्यस्थता के कारण मैं मंच पर उपस्थित नहीं हो पाई ,आपको नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं

      हटाएं
  3. वह शक्ति हमें दो दयानिधि कर्तव्य मार्ग पर डट जाएँ
    कभी स्कूल में सुबह की यही प्रार्थना करते थे हम, तब शब्दार्थ जानते थे अब भावार्थ अच्छे से समझते हैं इसलिए जितने बार पढ़ो मन को अच्छा लगता है, कुछ अच्छा करने का मन करता है और करते हैं जितना अपने से होता है
    बहुत सुन्दर प्रस्तुति
    आपको भी नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सहृदय धन्यवाद कविता जी ,सही कहा आपने कि यह प्रार्थना हमें शक्ति देती हैं अपने सामर्थता के साथ अपने कर्तव्य पर डटे रहने के लिए ,आपका भी नववर्ष मंगलमय हो

      हटाएं
  4. वाह!!प्रिय सखी कामिनी जी ..बहुत खूबसूरत शुरुआत की आपने नववर्ष की ।बहुत सुंदर संकल्पों से सजी आपकी रचना ....मन को भा गई । स्कूल की प्रार्थना भी याद दिला दी आपने । आपको भी नववर्ष की मंगलकामनाएं ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सहृदय धन्यवाद सखी ,देर से आने के लिए माफी चाहती हूँ ,आपका भी नववर्ष मंगलमय हो

      हटाएं
  5. वह शक्ति हमें दो दयानिधि कर्तव्य मार्ग पर डट जाएँ
    पर सेवा पर उपकार में हम ,निज जीवन सफल बना जाएँ
    वह शक्ति.
    खूबसूरत शुरुआत नववर्ष की...आपको भी नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं !!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सहृदय धन्यवाद संजय जी ,आपको भी नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं

      हटाएं
  6. बहुत सुंदर
    नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं💐

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सहृदय धन्यवाद लोकेश जी ,आपको भी नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं

      हटाएं
  7. बहुत सुन्दर कल्याणकारी भावों के साथ चिरपरिचित प्रार्थना से नववर्ष का शुभारंभ....
    वाह!!!
    आपको भी नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सहृदय धन्यवाद सुधा जी ,आपको भी नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं

      हटाएं
  8. बहुत सुंदर संकल्पों से सजी बहुत ही सुंदर प्रार्थना, कामिनी दी। आपको एवं आपके पूरे परिवार को नववर्ष की शुभकामनाएं।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सहृदय धन्यवाद ज्योति जी ,आपको भी नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं

      हटाएं
  9. सबसे पहले तो देर से उपस्थित होने के लिए आप सभी से क्षमा चाहती हूँ ,कुछ परिवारिक व्यस्थता के कारण आने में असमर्थ थी। आप सभी के स्नेह और शुभकामनाओं के लिए दिल से शुक्रिया ,ईश्वर से प्रार्थना हैं ,ये नया आप सभी के लिए बहुत बहुत कल्याणकारी और मंगलमय हो

    जवाब देंहटाएं
  10. आपको नववर्ष की ढेर सारी शुभकामनाएँ। जानता हूँ थोड़ा देर हो गया हूँ...बस बात यही है कि इस नववर्ष में आज ही आपको ढूंढ पाया।

    और बात रही आपके इस लेख और एक सुन्दर गीत (प्रार्थना) की जो वाकई में बेहतरीन है और मार्गदर्शन कर रही है। बहुत बढ़िया।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सहृदय धन्यवाद प्रकाश जी ,स्वागत हैं आपका मेरे ब्लॉग पर ,शुभकामनाएं तो दिल से दी जाती हैं वो कभी भी दी जा सकती हैं ,इसमें कभी देर नहीं होती। आपको भी नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं

      हटाएं
  11. सुंदर संकल्पों से सजी हुई बेहतरीन प्रस्तुति सखी।

    जवाब देंहटाएं

kaminisinha1971@gmail.com

"नशा" एक मनोरोग

"शराब"किसी ने इसकी बड़ी सही व्याख्या की है श -शतप्रतिषत रा -राक्षसों जैसा ब -बना देने वाला पेय     सच है, शराब पीने वा...