शनिवार, 25 अप्रैल 2020

साथ हो माझी तो किनारा भी करीब हैं....



     मन थोड़ा विचलित सा हो रहा था.... शायद, अकेलेपन से घबड़ा रहा था.... सोची,  थोड़ी देर छत पर जा कर खुली हवा में  बैठती हूँ.... शायद,  थोड़ा अच्छा लगे। छत से समुन्द्र का नजारा भी सुंदर दीखता हैं... मैं कुर्सी पर बैठी - बैठी समुन्द्र की लहरों को देखती रही... पता नहीं,  क्या ढूँढ रही थी उसमे....शायद, एक झूठी उम्मीद सी थी कि - इसमें से कोई देवदूत बाहर आएगा और मुझे मेरी सारी समस्याओं से निजात मिल जायेगी । मेरी आँखें  पूरी समुन्द्र का मुआयना कर जैसे,  सचमुच कुछ ढूँढ रही थी। तभी लहरों पर हिचकोले लेती एक नाव दिखाई पड़ी... बिना नाविक के ...शायद,  किसी मछुआरे की नाव डोर से टूटकर समुन्द्र में बह आई थी। लहरों के साथ वो अल्हड़ सी नाव.... कभी इधर डोलती कभी उधर। लहरों और हवाओं का साथ पाकर कभी - कभी वो किनारे तक आने में सफल होती दिखाई पड़ रही थी ....मगर,  जैसे लगता कि- अब तो वो किनारे पर आ ही जाएगी... तभी कोई बिपरीत लहर आकर उसे फिर से किनारे से दूर कर देती। उसे देख मेरी उत्सुकता बढ़ने लगी ...क्या ये नाव किनारे तक आ पायेगी ? दिल ने उसके लिए दुआ भी करनी शुरू कर दी....काश,  ये नाव किनारे तक सुरक्षित पहुँच  जाती... तो एक मछुआरे का नुकसान होने से बच जाता। पता नहीं कैसे ,उस नाव को देखते- देखते मुझे ये लगने लगा जैसे वो नाव नहीं" मैं "खुद हूँ। मेरी जीवन नईया भी तो ऐसे ही डगमग डोल रही हैं ...जब भी अथक प्रयास कर,  मैं अपनी मंजिल तक पहुँचने को होती हूँ... तभी कोई ना कोई बिपरीत परिस्थितियों  की लहर मुझे  धकेलती हुई फिर से मझधार में ला खड़ी करती हैं और मैं , फिर से किनारे तक पहुँचने के जुगत में लग जाती हूँ....फिर से हिम्मत जुटती हूँ और फिर से एक नई शुरुआत करने को विवश हो जाती हूँ। क्या , इस नाव की तरह मैं भी हिचकोले ही खाती रहूँगी..... मुझे, अपना किनारा  कभी मिलेगा भी या नहीं?  अब तो मेरी उत्सुकता और बढ़ गई... ऐसा लगने लगा जैसे, अगर ये नाव किनारे पर आ लगेगी तो,  एक- न -एक  दिन अवश्य मैं  भी अपनी मंजिल पा ही लूँगी।
घंटों मैं  बैठी,  नाव को देखती रही.... नाव किनारे पर आने में असमर्थ होती और मेरा दिल बैठने लगता ..तभी दूर से एक और नाव आती दिखाई दी.... उसकी चाल देखकर लग रहा था वो बिना माझी  की नाव नहीं हैं... उसकी पतवार किसी ने सम्भाल रखी हैं....वो नाव धीरे धीरे करीब आती गई... माझी ने मझधार में डोलती नाव पर कुछ काँटे जैसा फेका जिससे वो नाव माझी के हाथ में थमी उस मजबूत डोर से बँध गई , माझी उस नाव को साथ लेकर किनारे की तरफ बढ़ने लगा। दोनों नाव सही सलामत किनारे आ लगी थी। मेरी जान में जान आई... ऐसा लगा जैसे मुझे किनारा मिल गया हो। समझ में आ गया था कि -यदि माझी साथ हो तो नाव को किनारा जरूर नसीब होता हैं । मेरा माझी  भी तो हर पल मेरे साथ हैं... भले ही वो मुझसे दूर सही... मगर , एक मजबूत डोर से उसने मुझे खुद से बाँध रखा हैं....फिर,  मैं क्युँ डर रही हूँ ... देर से ही सही.... मुझे भी एक -न -एक दिन किनारा जरूर मिलेगा ....जब,  साथ हो माझी तो  किनारा भी करीब हैं....

मंगलवार, 21 अप्रैल 2020

" भाग्य और कर्म "



" अरे दी ,तुम करती रहो अपने कर्मो पर भरोसा... मैं तो प्रवल भाग्यशाली हूँ ..अब देखो ना तुम मेरा नोट्स बनाती हो और मैं रटा मारकर परीक्षा में लिख आती हूँ और पास हो जाती हूँ ..क्या करना हैं मेहनत करके पास ही होना था न सो हो गई...तुम इतने मेहनत करके तरह तरह के डिजाइन वाले ड्रेसेस बनाती हो और मैं बिना मेहनत किए ही तुम्हारे बनाए कपड़े पहन कर मज़े करती हूँ।   " कर्म में बहुत शक्ति हैं हमें हमेशा  कर्मशील ही होना चाहिए "-  रीतू  हमेशा रिया को  समझाने की कोशिश करती। रिया  और रीतू  दो बहनें मगर , उनके विचारों में ये भेद हमेशा  रहा। बचपन गुजारा  दोनों जवान हुए ,शादी -व्याह हुआ अपने अपने घर को गए। रिया  को उसके भाग्य ने हर वो चीज़ दिया जिसकी उसे चाह थी ,सुख संम्पन ससुराल और बहुत प्यार करने वाला पति भी। रीतू को मिला सिर्फ अकेला पति जिसके ना आगे कोई ना पीछे और प्यार तो शायद उसके नशीब में था ही नहीं।  दोनों की शादी पिता ने बहुत खोज -बिन कर ही किया था ....मगर,  शायद रिया के शब्दों में " अपना अपना भाग्य।"
    रीतू का जीवन बचपन से ही सघर्षरत रहा और आगे भी संघर्ष जारी ही रहा। कर्मठ थी ..अपने कर्मो पर कुछ ज्यादा ही विश्वास था उसे ... सो हर संघर्ष में जीतती भी गई। ये अलग बात थी कि -हर सघर्ष में उसे असीम मानसिक और शारीरिक पीड़ा से गुजरना पड़ा ...मगर वो थकी नहीं कभी। जहाँ एक तरफ रीतू अपने जीवन में एक एक कदम चलकर स्थायित्व लाने की कोशिश में जुटी रही, वही रिया  सुख सम्पनता में रत रही , यहाँ तक कि -अक्सर रीतू के  हिस्से की ख़ुशी पर भी उसी का अधिकार हो जाता। अक्सर, वो अपने पति के प्यार को भी रिया के  हिस्से में जाती देखती रही ,लेकिन रीतू  कभी भी इसका शिकवा तक  किसी से नहीं करती।

   कई बार रीतू के जीवन के दुखों को देख रिया व्यंगात्मक लहजे में कह देती ' दी,तुमने  तो इतनी पढाई -लिखाई की ..तुम इतनी गुणी हो ,कर्मठ हो मगर... क्या फायदा ...दी,  ये सत्य हैं - " जीवन में सुख भाग्य से मिलता हैं " रिया की बाते सुन रीतू थोड़ी देर के लिए सोच में पड़ जाती ...लेकिन,  अगले ही पल खुद को संभाल लेती और खुद को ही समझाने लगती " क्या हुआ जो मेरे हथेली में भाग्य रेखा नहीं ...मैं अपने कर्मो से अपना भाग्य बनाऊँगी " वक़्त गुजरता रहा अपनी सोच ,अपनी समझदारी से रीतू ने  अपना एक छोटा सा आशियाना बनाया ,पति की आमदनी कम थी इसलिए सिर्फ एक बच्चे की माँ बनी ताकि,  उसे अच्छी परवरिश दे सकें, अपने धैर्य ,सहनशीलता और स्नेह से पति के दिल को भी जीतने की कोशिश करती रही।


   एक तरफ जहाँ रीतू अपने कर्मों से अपने भाग्य में खुशियाँ लिखने के  प्रयास में लगी रही वही रिया अपने भाग्य के नशे में चूर अकर्मण्य होकर एक- एक करके हर सुख खोती जा रही थी। सास -स्वसुर ,ननद -देवर से भरेपूरे परिवार में भी वो उनका स्नेह जीतने में असफल रही ....पति  जो बेहद प्यार करता था मगर कब तक,  उसकी आवश्यकताओं का आप ख्याल नहीं रखोगे तो उसका प्यार स्थाई नहीं रह पाएगा। धीरे धीरे रिया के जीवन में  दुखों ने दस्तक देनी शुरू कर दी ...पति गलत रास्ते पर चलता चला गया और नशे का आदि हो गया ....आमदनी खत्म हो गई तो अय्याशी भी जाती रही और उसके जीवन को दुखों ने घेर लिया। उन  दुखों से लड़ने की क्षमता रिया में तो थी नहीं सो,  अपने दुखों का रोना रो रोकर वो मायके वालो को परेशान करने लगी और  शायद उसके  भाग्य ने भी उसका साथ दिया।  ससुराल ने साथ छोड़ा.... तो माँ -बाप भाई बहनों ने उसका हाथ थाम लिया .....खुद रीतू ने ही उसे सम्भाल लिया और उसे आर्धिक सहायता भी दी और मानसिक सुकून भी खुले दिल से दिया ... जबकि , रीतू जब मुसीबतों से दिन रात जूझ रही थी तो वही परिवार वालों ने  उसे कभी भी सहारा नहीं दिया... यहाँ  तक कि-  रिया ने तो कभी एक संतावना के बोल तक नहीं बोले। ऐसा नहीं था कि -परिवार वाले रीतू को  प्यार नहीं करते थे... लाड़ली थी वो सबकी,  क्योँ कि -रीतू दुःख में होते हुए भी परिवार के हर सदस्य का बहुत ख्याल रखती थी।  मगर,  रीतू के दुःख कभी किसी को नजर ही नहीं आए या शायद,  उसने  कभी अपने दुखों का रोना किसी के आगे नहीं रोया और कोई मदद के लिए आगे नहीं आया या रिया के शब्दों में शायद... रीतू के भाग्य में ही किसी का सहयोग नहीं लिखा था।


    रिया को सबने सहयोग देने की भरपूर कोशिश की मगर..  शायद , भाग्य अपना रंग बदल रहा था या उसके कर्म उसका भाग्य लिख रहा था।  रिया के पति  आसाध्य रोग से पीड़ित हो उसे तीन बच्चो के साथ बेसहारा छोड़ हमेशा हमेशा के लिए चले गए। रिया के भाग्य में एक अधूरापन आ गया ..एक पल को सबको लगा कि -रिया अब क्या करेगी ...बच्चो का जीवनयापन कैसे करेगी मगर ...यकीनन, वो  भाग्यशाली तो थी,  जिस ससुराल वालों ने उसे छोड़ दिया था उन्होंने ही उसे हाथों हाथ उठा लिया ,रिया के जीवन में कोई आर्धिक तंगी नहीं आई जहाँ तक मानसिक ख़ुशी ....तो शायद , उसके भाग्य में दूसरों के हिस्से की भी ख़ुशी मिलना लिखा रहा और वो उसे किसी ना किसी बहाने मिलता रहा।


     और कर्मों पर अटल रहने वाली रीतू अपने अथक प्रयास से अपने जीवन में ही नहीं दूसरों के जीवन में भी स्थायित्व लाती रही।  मगर, शायद उसके भाग्य में सुख और ख़ुशी  लिखा ही नहीं था। दुनिया के नजर में रिया दुःख की मारी थी.. लेकिन,  भाग्य उसे वो सब कुछ दे रहा था जो एक इंसान को खुश होने के लिए चाहिए। दूसरी तरफ रीतू,  दुनिया के नजरों में उसके पास सबकुछ था और वो सफल भी  दिख रही थी ,मगर सबकुछ होते हुए भी रीतू के हाथ रीते थे।" ख़ुशी और सुख " यानि प्यार और आर्धिक सम्पनता रीतू को जीवन में कभी नहीं मिला और अकेलेपन से तो रीतू का  चोली दामन का साथ था जो ताउम्र नहीं छूटा।

 तुलसीदास जी ने तो  कहा हैं -
"सकल पदारथ एहि जग माहीं, कर्महीन नर पावत नाही "

     और रीतू सारी उम्र इसी का पालन करती रही फिर - " रीतू के हाथ रीते क्योँ रहें ?"

     मेरे समझ से तो रीतू के हाथ खाली नहीं थे ....माना,  रीतू के भाग्य ने उसका साथ नहीं दिया और ...भले ही उसके जीवन में प्यार का अभाव रहा.... भले ही वो हमेशा किसी के साथ और सहयोग को तरसती रही ....भले ही सबको सम्पन्नता देते  हुए भी वो  खुद अपना सारा जीवन  आर्थिक तंगी में  ही गुजार दी  । मगर , जीवन  में उसने पाया भी बहुत कुछ....उसने आत्मनिर्भरता पाई ...संयमित  जीवन पाया ....सुख और दुःख पर विजय पाई ....खुद से ज्यादा दूसरों के लिए जीना सीखा ...रीतू उस परम सत्य को जान पाई जिसका मर्म समझना ज्ञानियों के लिए भी मुश्किल रहा " फल की चिंता किये बिना  निस्वार्थ कर्म करना " शायद ये उपलब्धि हर किसी के भाग्य में नहीं होता। 
आपके क्या विचार हैं -" क्या  रीतू के हाथ खाली रहें  .....?

शुक्रवार, 17 अप्रैल 2020

" मरुस्थल सा जीवन "


    शाम का अँधेरा घिरने लगा हैं... और मेरा सफर... अभी भी जारी हैं ....नगें पैरों में मरुस्थल के बारीक़ रेत.. कभी चुभ रहें हैं ..कभी गुदगुदा रहें हैं ...अँधेरा गहरा और गहरा होता जा रहा हैं ...कभी कभी अनजाने  भय से तन -बदन में एक डर की सिहरन सी दौड़ जा रही हैं पर... सफर को जारी रखना है और वो जारी हैं.... तभी चाँद की मद्धम -मद्धम  रौशनी फैलने लगी .....थोड़ा सुकून मिला कि- " अब सफर कुछ तो आसान होगा।"  मगर,  ये क्या ये तो शायद चौथी का चाँद था ...जो चार घड़ी रौशनी दिखाकर गायब ....मगर , मेरा सफर जारी रहा।  अकेले सुनसान रास्ते पर... जीवन  के मरुस्थल में.... जहाँ दूर दूर तक सिर्फ अँधेरा हैं और... रास्ते में रेत ही रेत...  तभी,   दूर कही से शहनाई की गूंज सुनाई दी ...ढोलक की धाप ...और लोक गीतों की मधुर स्वर लहरी बिखरने लगी .....थोड़ा ढाढ़स बंधा ..." खुशियाँ  " शायद मेरे आस -पास ही हैं ...ज्यादा दूर नहीं ...उस ख़ुशी की चाह में क़दमों की रफ्तार तेज हो गई ...मैं उन खुशियों को करीब से देखना चाहती थी.... महसूस करना चाहती थी ....उसमे खोकर अब तक के दर्द को भूल जाना चाहती थी....जैसे- जैसे उसके करीब पहुँच रही थी ... शहनाई की  धुन अंतर्मन को शीतल करने  लगी।  मगर, ...जब तक मैं ख़ुशी  के बीच  पहुँचकर उसे आत्मसात कर पाती..... तब तक .... शायद खुशियों का वक़्त ख़त्म हो चूका था ....वो मुझसे दूर, बहुत दूर जा चुकी थी। मैंने धैर्य नहीं छोड़ा ....रात के अँधेरे में चलती रही ...बस चलती रही....
    चलते- चलते,  आभास हुआ कि-  हल्की रौशनी फैलनी शुरू हो गई हैं.... यकीनन,  सूर्योदय हो रहा था ....हृदय में प्रसन्नता की लहर दौड़ गई .....आख़िरकार,  ये अंतहीन सी रात ढल ही गई। सुबह की सुनहरी किरणें.... मरुस्थल की रेत पर...  सतरंगी सपने बिखेरने लगी ....मैं उन सतरंगी सपनों को समेटने लगी.... मैं उन  सपनों से अपनी खुशियों का दामन भर लेना चाहती थी ....उसे खुद से ऐसे मिला लेना चाहती थी कि -वो " खुशियाँ " अब कभी मुझसे जुदा ना हो। मगर ये क्या , मेरे पाँव तो जलने लगे हैं ...वो सपने जिन्हे... मैंने अपनी ख़ुशी समझ ..अपने दामन  में भर लिया था ....वो तो मेरा ही वजूद जलाने लगी .....मैं उन " खुशियों " को दामन से झटक... भागने लगी .....मैं भाग जाना चाहती थी ....दूर, बहुत दूर ....मगर,  मरुस्थल के रेत में...मैं  भागने में असमर्थ हो रही हूँ .....तपती रेत,  मेरे पैरों को झुलसा रही हैं .....हर अंग से अग्नि की ज्वाला सी फूटने लगी हैं ....दिन का सूरज चढ़ता जा रहा हैं .....और मेरी पीड़ा भी बढ़ती जा रही हैं। एक पल को दिल ने कहा- "  इससे  तो अँधेरी रात ही भली थी " माना कि - कोई सपने नहीं थे... कोई खुशियाँ नहीं थी ....मगर,  ये जलन और पीड़ा भी तो नहीं थी। थकान और पीड़ा से बेहाल.... मैं कोई छाँव ढूँढने लगी .....जहाँ थोड़ी देर सुकून पा सकूँ।  पर , इस मरुस्थल में छाँव कहाँ ?  मैं बेचैन होने लगी ...तो क्या ऐसे ही तड़प -तड़पकर मैं दम तोड़ दूँगी ? क्या यही जीवन हैं ? आखिर , किस चीज की चाह में मैं भटक रही हूँ ? ये कैसी प्यास हैं मेरी जो बुझती नहीं ?
   
    तभी मेरी नजर मरुस्थल में उगे छोटे- छोटे नागफनी के पौधों पर पड़ी.....मैं उसके हरे भरे रूप और उसके दामन में खिले सुंदर से फूल को अपलक निहारती रही। नागफनी ने पूछा -" क्या देख रही हो बहन ? "  तुम कैसे जीवित हो इस मरुस्थल में ....क्या तुम्हे सूरज जलाता नहीं ...तुम्हे कोई  प्यास तड़पाती नहीं.....क्या तुम्हारे हृदय में हुक नहीं उठती कि -तुम्हे कोई प्यार नहीं करता....वैसे भी तुम्हे कोई क्यों चाहे ....कोई तुम्हारे पास आकर दो घड़ी बैठ भी तो नहीं सकता ....छाँव तो तुमसे मिलेगा नहीं... मगर कांटे तुम जरूर चुभा दोगी .....जब दुनिया को तुम्हारी जरूरत ही नहीं फिर.... तुम क्यों जिन्दा हो... इस मरुस्थल में ? मैंने सवालों की झड़ी लगा दी। 
    नागफनी तो चुप रही... मगर,  उसके नन्हे से फूल ने मुस्कुराते हुए कहा - " बहन ,परमात्मा ने हमें जन्म दिया हैं तो ...कुछ तो हमारा महत्व होगा ही न "  मुझमे और तुममें फर्क यही हैं कि - मुझे परमात्मा ने जो दिया ....जैसा भी दिया.... हम खुश हैं ...मुस्कुरा रहें हैं.... संतुष्ट हैं... अपनी जड़ों से जुड़ें खुद को जिन्दा रखने में सक्षम हैं.... हमें उस नियंता से कोई शिकायत नहीं.... खुद के लिए हम उनके आगे कोई सवाल लेकर नहीं खड़े होते ....मगर तुम, जो मिला उससे संतुष्ट नहीं... और ज्यादा की चाह में भटक रही हो।"  अपने नन्हे पुष्प की बातें सुन नागफनी मुस्कुराती हुई बोली -  बहन,  ख़ुशी अंतरात्मा में होती हैं उसे ढूँढने बाहर भटकोगी तो -" ख़ुशी की चाह में ढेरों गम साथ हो लगे " तुम्हारा जीवन मरुस्थल हैं ....और हमारा मरुस्थल में जीवन .....

     मैं , हतप्रस्थ सी उसकी बाते सुनती रही..... हृदय में कई सवाल उमड़ने लगे...." आखिर क्युँ भटकते हैं लोग " .... क्युँ भटक रही हूँ मैं ....  थक गई हूँ ....मरुस्थल से जीवन में ख़ुशी ,अपनत्व, प्यार की तलाश करते- करते..... मगर,  हाथ रीते ही रहें....  मेरे हृदय में नागफनी के लिए स्नेह उपजा ...उसके कोमल फूल को मैं सहलाने लगी ,उफ्फ ... ये क्या किया तुमने-  मैं झल्लाई ,उसके काँटे मेरी उँगलियों को चुभ गए थे  ,तभी एक तेज़ आवाज़ कानों में पड़ी मैं घबड़ाकर उठ बैठी...घडी के अलार्म ने मुझे जगा दिया था।  ओह... मेरे प्रभु,  ये ख्वाब  था .....क्या सचमुच ये ख्वाब था या मेरे ही जीवन का दर्पण ?
    ये ख्वाब नहीं... ये सच हैं मेरे ही जीवन का " कटु सत्य " जो मुझे कुछ संकेत दे रहा हैं.... उसी पल मैंने खुद को समझाया - " ढहर जा ऐ मन "  ये प्यार, अपनत्व,  ख़ुशी की तलाश छोड़... अब खुद की तलाश कर.... यकीनन , नागफनी की तरह तेरे भीतर भी एक सुमन स्वतः ही मुस्कुराने लगेगा..... फिर , सारा संसार अपना ......सारी सृष्टि प्यारी ......और हर तरफ खुशियाँ ही खुशियाँ दिखेंगी ... चाहे भयावह अँधेरी रात हो.... या रेगिस्तान की तपती दोपहरी......  








शनिवार, 11 अप्रैल 2020

" माँ से कहना "


" तुम बिलकुल फिक्र नहीं करो दोस्त ...तुम्हे कुछ नहीं होगा ",गोलियों के धमाके के बीच खून से लथपथ पड़े, दीपक को शेखर  बड़ी मुश्किल से सहारा देते हुए एक सुरक्षित जगह पर लेकर आता। दीपक बुरी तरह घायल हैं, उसे एक पेड़ से टिकाकर बैठाते हुए शेखर बोला - " लो थोड़ा पानी पिलो..  मैं तुम्हारे जख्मो को साफ करता हूँ... डरना नहीं  दोस्त ,हम दोनों साथ घर लौटेंगे।"  दीपक की साँसे उखड़ रही थी, खुद को संभालते हुए बड़ी मुश्किल से बोला--" ,यकीन मानो दोस्त  ,मुझे जरा भी डर नहीं लग रहा... कोई घबड़ाहट नहीं हो रही ...बस,  माँ की कही बात याद आ रही हैं.. पता हैं मेरे भाई, एक बार जब  मैं माँ के गोद में लेटा था तो,माँ से पूछ बैठा- " माँ तुमने तो मुझे फौजी  बनाकर अपनी गोद से महरूम कर दिया... कितना सुकून मिलता हैं तुम्हारी गोद में। तो माँ ने  कहा था - " माँ से ज्यादा सुकून तुम्हे मातृभूमि के गोद में सोकर आएगा मेरे लाल .....यदि हर बेटा माँ की गोद में रह जाएगा तो,  मातृभूमि की रक्षा कौन करेगा।"
 शेखर उसके जख्मो का प्राथमिक उपचार कर रहा था ,उसके बहते खून को रोकने के प्रयास में लगा था और दीपक अपनी ही धुन में बोले जा रहा था। दोस्त-- देश के  असली सैनिक हम नहीं ....देश के असली रक्षक तो वो हर एक माँ हैं ,वो हर एक पत्नी हैं... जो हमें मातृभूमि के प्रति अपना कर्तव्य निभाने को सहर्ष स्वीकृति ही नहीं देती बल्कि हमें अपना कर्तव्य निभाने की हिम्मत भी देती हैं.... हम तो मर के शहीद की उपाधि से सम्मानित होते हैं उन्हें तो कोई मेंडल या तगमें का  स्वार्थ भी नहीं होता....हम तो मर कर मुक्ति भी पा लेते हैं ....मगर वो तो जीते जी मरने की सजा आजीवन पाती हैं ...और दोस्त कमाल की बात तो ये हैं कि - इस सजा को भी वो सजा नहीं मानती ...बल्कि बड़ी हिम्मत से अपना धर्म समझकर निभाती हैं।
शेखर भाई ,मेरा तो अंत समय आ गया हैं.....तुम मुझ पर एक एहसान करना ...तुम मेरी माँ तक मेरा एक संदेश पहुँचा देना....माँ से कहना - तुम ने सच कहा था माँ  - " आज मातृभूमि पर न्योछावर होकर... उसकी गोद में सोकर... जो सुख मिल रहा हैं उस पर कई जीवन कुर्बान हैं  " -  दीपक गहरी साँस लेते हुए बोला।

   शेखर  भाई तुम सुन रहे हो न.... हाँ ,हाँ मैं सब सुन रहा हूँ दीपक.. अभी मदद के लिए कोई आता ही होगा तुम्हे कुछ नहीं होगा दोस्त - शेखर संतावना देते हुए बोला। शेखर की बातों को अनसुना कर दीपक बोले जा रहा था - शेखर भाई , तुम मेरी माँ को मेरा सेल्यूट देना ...मेरे सभी सैनिक दोस्तों के माँ को भी मेरा सेल्यूट देना ,कहना-  वो धन्य हैं ...वो धन्य है ....वो देश की सच्ची पहरेदार हैं जिन्होंने हमें जन्म देकर देश का सैनिक बनने का गौरव प्रदान किया ...उन सभी पत्नियों को मेरा सेल्यूट देना  - जिन्होंने  देश के हित में अपने सर्वस्व सुख को  न्योछावर कर दिया.... उन सभी को  मेरा कोटि कोटि नमन कहना... जिन्होंने  अपने प्राण से प्यारों को देश के लिए हँसते हँसते सपर्पित कर दिया हैं -  एक एक शब्द बड़ी मुश्किल से बोलते हुए,  दीपक ने सेल्यूट के लिए अपना हाथ उठाया और ...उसकी साँसों  ने उसका साथ छोड़ दिया ...देश का एक और  दीपक देश को रोशन करते करते बुझ गया था ...
********

" आज देश में फिर से युद्ध जैसी स्थिति हैं... यकीनन उससे भी ज्यादा चिंताजनक... देश के प्रत्येक व्यक्ति को एक सैनिक बनना हैं तभी हम ये युद्ध जीत पाएंगे। युद्ध भी ऐसा जिसमे ना बन्दूक उठाना हैं ना तलवार  सिर्फ घर में छुपकर रहना  हैं। इस वक़्त देश में सच्चे सैनिक का फ़र्ज़ अदा  कर रहे हैं स्वस्थ सेवा से जुड़े सभी कर्मचरी ,सभी सुरक्षाकर्मी ,सभी सफाईकर्मी और मानवता के सेवा में जुटे वो प्रत्येक मानव जो रात दिन हमें बचाने के लिए अपने घर -परिवार से दूर प्रयासरत हैं .... सेल्यूट हैं उन्हें और उनके घरवालों को जिन्होंने अपने प्राणों से प्यारों को  अनदेखे दुश्मन से लड़ने के लिए समर्पित कर दिया हैं। "कोटि -कोटि नमन उन्हें 


रविवार, 5 अप्रैल 2020

" एक दीया मानवता के नाम "

   


" दीया " अर्थात"  दे दिया " ,मतलब - देना ....दीया  का काम ही हैं निस्वार्थ भाव से प्रकाश देना  ...बिना किसी भेद -भाव का। आज रात  नौ बजे हम सब को भी एक साथ एक ही वक़्त में एक  संकल्प का दीया बनना हैं... हम अपने हाथो में दीया लेकर खड़े होंगे... एक संकल्प के साथ जुड़ेंगे ...संकल्प देश को बचाने का ,संकल्प मानवता को बचाने का, संकल्प सृष्टि को बचाने का।
    दीया सिर्फ हाथों में नहीं जलाना हैं बल्कि  दीये की तरह ही निस्वार्थ होकर  दीया दिलों में भी जलाना हैं ...संकल्प का ,दुआओं का ,सकारात्मक ऊर्जा का.....दूरियाँ हाथों में होगी दिलों को दिलों से जोड़ना हैं। हमें एक ही संकल्प से  एक दूसरे को निस्वार्थ भाव से दुआएं ,शक्ति, सहयोग और शुकराना देना हैं ..." हाथ का दीया प्रकाश का प्रतीक हैं और मन का दीया शक्ति का " जैसे शारीरिक संगठन की शक्ति काम करती हैं उससे कही ज्यादा  संगठित मानसिक तरंगो की शक्ति  काम करती हैं। जब हम सभी एक सी स्थिति में... एक ही वातावरण में ..एक ही उद्देश्य को लेकर... एक ही  संकल्प  करेगें  ... सवा सौ करोड़ दिलों में जब एक साथ  दुआओं की ज्योत  जलेगी तो ....इसकी सकारात्मक ऊर्जा सृष्टि के एक कण कण तक पहुँचेगी....हमारी दुआ सभी को मिलेगी और सभी की दुआएँ हमें मिलेगी। वातावरण में चारो तरफ एक सकारात्मक ऊर्जा के तरंगो का निर्माण होगा जो हमारे तन -मन को शक्ति और निर्भयता प्रदान करेगा। यक़ीन  मानिए ,आज इस भयावह स्थिति में हमें मानसिक शक्ति और सहयोग की बड़ी दरकार हैं और यही इस विपदा से बाहर निकलने का रास्ता भी। 

   मानसिक तरंगो की ऊर्जा के  प्रभाव को  विज्ञान भी मानने से इंकार नहीं करता। वो भी मानता  हैं कि- हमारे आवाज़ की ,हमारे  विचारो की तरंगे वातावरण में व्याप्त हो जाती हैं और वो दूसरे के मन मस्तिष्क पर भी गहरा असर करती हैं। इसी आधार पर रेकी पद्धति का अविष्कार हुआ। जिसमे  मीलों दूर बैठे हुए  किसी रोगी  के रोग का निदान हम अपनी मानसिक तरंगो से करते हैं। विज्ञान ये भी मानता हैं कि हम अपने  मन की तरंगों को दूसरे के मन तक पहुँचा सकते हैं जिसे टेलीपेथी नाम दिया गया। 

   हममें से बहुतो को आज आध्यात्म  की बातों से परहेज हैं लेकिन विज्ञान को तो वो जरूर मानेगे न। तो विज्ञान को ही माने और ....आज इस प्रयोजन को एक प्रयोग के रूप में ले। आजमाए, विज्ञान सच कहता हैं या नहीं.... बशर्ते दीया सिर्फ हाथों में नहीं जलना चाहिए  ...बल्कि सच्चे मन से दिलों में भी दुआओं का  ,सहयोग का  ,मानवता का  ,उन अनगिनत मानवता के सेवा करने वाले दिव्य आत्माओं के प्रति शुकराना का  , वो अदृश्य  शक्ति जो हमारे सारे गुरुर चूर चूर कर रहा हैं उसके प्रति सच्ची आस्था का दीपक चलाना होगा। एक प्रयोग ही करके देखते हैं। 
   यदि किसी को इससे भी परहेज हो तो... वो ना जलाये दीये कोई बात नहीं ....मगर कम से कम 9 मिनट के लिए अपने घरों की बिजली की आपूर्ति को बंद तो कर ही सकते हैं न.... इसी बहाने पुरे देश में नौ मिनट की ऊर्जा का हम बचत कर लेगें  ....ये भी कम बड़ी उपलब्धि नहीं होगी। यकीन मानिए,  इससे आपका कोई नुकसान नहीं होगा लेकिन आप देश भक्त जरूर कहलायेगें । 

तो आए आज इस इकीसवीं सदी में ये प्रयोग भी करके देखते हैं और एक दीया दिलों में मानवता के नाम का जलाते हैं .....


शनिवार, 4 अप्रैल 2020

" नन्हा देशभक्त "


" पापा देशभक्ति क्या होती हैं ?"  बेटा -देशभक्ति मतलब  "  देश से प्यार करना " ....जैसे , आप जिस घर में रहते हो उससे प्यार करते हो न.... तो हम जिस देश में रहते हैं हमें उससे भी प्यार करना चाहिए। " पापा तब तो देश से प्यार करना  अच्छी बात हैं"... फिर ये लोग भगत सिंह और उनके दोस्तों को फाँसी क्योँ दे रहे हैं... ये लोग तो मर जाएंगे न। टीवी पर " शहीद  भगत सिंह " फिल्म आ रही थी ,  जब उन्हें फाँसी दी जा रही थी तो... नन्हा युवी पापा से पूछ बैठा।  बेटा-- ये लोग मरेंगे नहीं, ये तो शहीद होंगे ...जो देश के लिए लड़ते हैं वो कभी मरते नहीं हैं। पापा .." ये देश के लिए क्यूँ लड़ रहे थे"  लड़ना तो बुरी बात हैं न। हाँ बेटा --बुरी बात तो हैं मगर .... यदि तुम्हारे घर में कोई जबरन घुसकर उसे अपना घर कहने लगे.... तुम्हारे माँ पापा को भी तुमसे छीनने लगे.... तो तुम क्या करोगे। " मैं तो उसे डंडे से मार -मारकर बाहर भगा दूँगा ".... शाबास , ऐसे ही हमारा देश भी तो हम सबका  एक बड़ा सा घर हैं न ....और जब हमारे देश में अग्रेज घुस आये थे ....तो भगत सिंह और उनके दोस्त उन्हें भागाने के लिए लड़ रहे थे .....परन्तु , उस वक़्त अग्रेज उनसे ज्यादा ताकतवर थे तो..... उन्होंने भगत सिंह को फाँसी पर चढ़ा दिया लेकिन..... भगत सिंह जैसे बहुत सारे देशभक्तो ने मिलकर अग्रेजो को अपने देश से भगा दिया।
" तो पापा मैं भी अपने देश से बहुत प्यार करता हूँ मैं भी देशभक्त हूँ " युवी खड़े होकर जोश में  बोला।  मगर अगले ही पल वो सहम गया ....क्या हुआ बेटा जी --डर क्यूँ गए तुम। पापा-  "जो देश से प्यार करते हैं वो सभी तो  मर जाते हैं न और.... मुझे तो मरने से बहुत डर लगता हैं..... फिर तो मैं कभी देशभक्त नहीं बन पाऊँगा "-कहते हुए युवी थोड़ा रुआंसा हो गया । आज  ऐसा नहीं हैं बेटा .....आज तो सच्चा देशभक्त ही जिन्दा रहेगा .....जो देश के दुश्मन हैं वही मरेंगे.... तुम देशभक्त हो ... सबसे बड़े देशभक्त और तुम जिन्दा भी रहोगे।" वो कैसे पापा " युवी ने उत्सुकता से पूछा। आपको पता हैं न आज कल हमलोग घर में क्यों बंद होकर रह रहे हैं....
 हाँ पापा, . कोरोना बीमारी फैली हैं इसीलिए। हाँ बेटा जी , ये कोरोना बहुत बड़ा देश का दुश्मन हैं ....और हमें इसे भगाना  हैं और.... सबसे बड़ा देशभक्त बनना हैं.....और , कोरोना को कैसे भगाना हैं... वो तो तुम जानते ही हो।  " हाँ पापा " - युवी ख़ुशी  से उझळता हुआ बोला --" मुझे पता हैं हम घर के भीतर रहेंगे तो कोरोना हमसे डर कर भाग जाएगा और.... हम देशभक्त कैसे कहलाएंगे। "  तो पापा क्या हमारा नाम भी देशभक्तो के नाम के साथ आएगा "...  हाँ बेटा जी,  जो जिन्दा रहेंगे...वो  सभी देशभक्त कहलाएंगे। " समझे न मेरे देश के छोटे सिपाही "- कहते हुए अभिषेक ने युवी को गले से लगा लिया।

बुधवार, 1 अप्रैल 2020

दूरियाँ भी हैं जरुरी

" हैप्पी बर्थ डे बेटा जी "

" क्या मम्मा ,कैसा बर्थ डे ना केक हैं, ना पापा हैं और ना ही कोई अपना फिर कैसा बर्थ डे "फोन में ही देखते हुए  उदास आवाज में मनु  बोली ...अरे, इधर देखो तो सही ...नीरा ने कहा। अरे, मम्मा ये क्या हैं.... नीरा के हाथों में एक छोटी से प्लेट में एक छोटा सा केक सजा देख मनु चहकती हुई उठ बैठी..... कैसे किया आपने घर में तो कुछ भी नहीं था। बस,  बेटा जी , जो कुछ भी था... जैसे , थोड़ा ब्रेड, थोड़ा आमंड बटर, थोड़ा ड्राई फ्रूट्स और ढेर सारा प्यार मिलाकर.... मैं ये छोटा सा केक लाई हूँ .... उठो -उठो,  सबको विडिओ कॉल करते हैं और केक काटते हैं ....मनु नीरा के गले से लिपटकर उसे चूमने लगी। फिर विडिओ कॉल पर ही सबके साथ मिलकर मनु ने केक कटाकर अपना जन्मदिन मनाया। 

    मम्मा ,कैसा दिन आ गया हैं न..... हमने कभी सोचा भी नहीं था कि -हम कभी ऐसे ...सबसे इतनी दूर अकेले होकर.... अपना बर्थ डे मनाएंगे। कोई बात नहीं बेटा,  ये दिन भी एक यादगार हो सकता हैं न ....पता हैं आपको ,
जब हरपल  हम सबके साथ होते हैं न तो उनकी अहमियत भूल जाते हैं .....दूरियाँ हमें सबकी अहमियत समझती हैं और अपनों का कद्र करना सिखाती हैं .....जो परिवार के करीब होते हुए भी परिवार की परवाह ना करके सिर्फ भौतिक सुखों के पीछे भागते हैं ....उस पल उन्हें समझ ही नहीं आता कि -जिसके लिए आप कमा रहे हैं .. उन्ही को भूले जा रहें हो ....रोटी कमाने के लिए घर से निकलते हैं और रोटी खाने की ही फुरसत नहीं होती उन्हें ...ये पल उन्हें समझा रहा हैं कि -भौतिक सुख तुम्हे बाहरी खुशियाँ तो दे सकती हैं मगर साथ ही भटकाव भी दे रही हैं ..... परिवार  के बीच रहकर नमक रोटी खाकर जो  सुख और शांति तुम्हे मिलेगी वो परमानंद हैं ....जो तुम्हे परमात्मा के करीब ले जाएगा..... देखो न बेटा,  आज पैसा होते हुए भी हम जरूरत की चीज़े नहीं खरीद पा रहे हैं ....ये हमें कम में जीना सीखा रही हैं, हैं न  .....इतना ही नहीं,  ऐसे हालत में आगे हमें पैसों की कमी भी होगी और तब पैसो से दुरी..... हमें पैसे की अहमियत भी समझाएंगी ....  ऐसे में जिसने कम में ख़ुशी खरीदाना और बाँटना सीख लिया न उनका समय सार्थक गुजरेगा.......बेटा,  ये पल हमें ढेरों अनुभव देकर जाएगा ......अब आप इस अनुभव को अपने जीवन में कैसे उतारते हो.... टूटकर बिखर जाते हो या अपने जीवन जीने का नजरियाँ बदलकर हमेशा के लिए सम्भल जाते हो.... ये आप पर निर्भर हैं.... बेटा,  ये बिपदा की घडी भी हमें बहुत कुछ समझाने- सीखने आई हैं.... अगर, हम समझना चाहे तो....यदि  अब भी नहीं समझे और सम्भले..... तो हमारा बिनाश निश्चित हैं।  

     नीरा कहती जा रही थी और मनु उसके बाँहों में सोये सोये ख़ामोशी से सब सुन रही थी.... शायद वो समझने की कोशिश कर रही थी .....जीवन के उतार -चढाव को ,वक़्त के दिखाए फेर -बदल को ,रिश्तो की अहमियत को ,अपनों के प्यार और एहसास को .....




"अब "

 "अब" अर्थात  वर्तमान यानि जो पल जी रहें है...ये पल अनमोल है...इसमे संभावनाओं का अनूठापन है...अनंत उपलब्धियों की धरोहर छिपी है इस ...