रविवार, 15 मई 2022

"विश्व वानिकी दिवस" के दिन जलता वन



पुरे विश्व में रिश्तें,समाज,पर्यावरण,किसी व्यक्ति विशेष और यहाँ तक की बीमारियों को भी याद रखने के लिए एक खास दिन तय किया गया है। मगर,क्या सिर्फ एक दिन तय कर देने से उन रिश्तों,उन परम्पराओं, हमारी संस्कृति और प्रकृति के प्रति हमारी जिम्मेदारी पूरी हो जाती है ? ये दिन यकीनन एक खास उदेश्य से तय किये गए थे,इन के माध्यम से हम अपनी अगली पीढ़ी को उस विषय से परिचित करा सकें,उन्हें जागरूक कर सकें और उन्हें ये जिम्मेदारी भी दे सकें कि इसे आगे तुम्हे निर्वाह करना है। मगर क्या ऐसा हो पा रहा है ?

आज से तीस साल पहले  ऐसा ही एक दिन तय किया गया था "विश्व वानिकी दिवस" जो हर साल 21 मार्च को मनाया जाता है। यह दुनियाभर में लोगों को वनों की महत्ता तथा उनसे मिलने वाले अन्य लाभों की याद दिलाने के लिए पिछले 30 वर्षों से मनाया जा रहा है। विश्व वानिकी दिवस का उद्देश्य यही था कि विश्व के सभी देश अपनी वन−सम्पदा और वनों को संरक्षण प्रदान करें। मगर,सोचने वाली बात है -अगर इस विषय की गंभीरता को समझकर इस दिवस को हम दिल से मनाये होते और एक पौधा लगाकर भी अपना कर्तव्य निभाए होते तो क्या आज पर्यावरण की ये दुर्दशा हुई होती ? सबसे दुखद बात ये है कि "इसी महीने में सबसे ज्यादा वन जलते भी है।" जब हमें पहले से पता होता है कि-इन्ही दिनों जंगल जलते है तो वन विभाग पहले से सतर्क क्यों नहीं रहता या वो भी दिवस मनाने में व्यस्त रहते है ?

 

पहले ऐसा कोई दिन तय नहीं किया गया था मगर फिर भी,वनों के प्रति सब दिल से समर्पित थे। वनों की महत्ता कौन नहीं जानता कि पेड़ पृथ्वी के लिए सुरक्षा कवच का काम करते हैं और पृथ्वी के तापमान को नियंत्रित करते हैं। पेड़ों की अंधाधुंध कटाई एवं सिमटते जंगलों की वजह से भूमि बंजर और रेगिस्तान में तब्दील होती जा रही है जिससे दुनियाभर में खाद्य संकट का खतरा मंडराने लगा है। वन न केवल पृथ्वी पर मिट्टी की पकड़ बनाए रखता है बल्कि बाढ़ को भी रोकता और मिट्टी को उपजाऊ भी बनाए रखता है। 

मगर,आज पृथ्वी पर लगभग 11 प्रतिशत वन ही संरक्षित है जो विश्व पर्यावरण की दृष्टि से बहुत ही कम है। स्वस्थ्य पर्यावरण हेतु पृथ्वी पर लगभग एक तिहाई वनों का होना अति आवश्यक है। लेकिन विकास की अन्धी होड़, जनसंख्या विस्फोट, औद्योगिकरण एवं गलत वन नीतियों के कारण वनों के क्षेत्रफल में लगातार कमी आ रही है जो एक विश्व स्तरीय समस्या बन चुकी है।नये पेड़-पौधे लगाना तो दूर, जो है हम उसे भी गवाते जा रहें हैं। 

मानव सभ्यता के प्रारम्भ से ही मनुष्य का जंगल से गहरा रिश्ता रहा है।जंगल ही वो स्रोत है जहाँ से हमें ऑक्सीजन की सबसे ज्यादा आपूर्ति होती है साथ ही जलाने के लिए ईंधन की पूर्ति, खेती में प्रयुक्त होने वाले औजार, खाद हेतु पत्तियाँ,  जानवरों के लिए चारा और घास, घर बनाने के लिए लकड़ी आदि और सबसे जरुरी औषधियों के लिए अनमोल जड़ी-बूटियों का  सबसे बड़े स्रोत वन ही रहे हैं।पहाड़ों में रहने वाले लोगों के लिए जीवनयापन का मुख्य आधार अभी भी खेती और पशुपालन रहा है। इन दोनों का आधार स्थानीय वनों से प्राप्त होने वाली उपज है।जंगल हमारे पशु-पक्षियों,जानवरों का घर है। यहाँ आज भी अनेक दुर्लभ जीवों की प्रजातिया पाई जाती है,जंगल के साथ उनका भी आस्तित्व जल रहा है। हर साल पुरे विश्व में जंगल की आग तबाही मचा रहा है।  

 हमारे भारत में भी हर साल गर्मियों के मौसम में झारखंड, उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश और जम्मू−कश्मीर के जंगलों में आग लगने की घटनाएं बढ़ती ही जा रही है। पिछले साल तो सर्दियों के मौसम में ही उत्तराखंड के जंगल जलने लगे थे इस बार भी मार्च आते ही तापमान में ऐसा परिवर्तन हुआ कि 8 मार्च से लेकर 14 मार्च तक जंगल में आगजनी की 20 घटनाएं दर्ज की जा चुकी थी जिनमे 24.5 हेक्टर जंगल का क्षेत्र प्रभावित हुआ था। यदि वन विभाग उसी वक़्त सचेत हो जाते तो ये तबाही नहीं होती।अब तक सिर्फ उत्तराखंड में  604 वनाग्नि की घटनाएं रिपोर्ट की जा चुकी हैं और  कुल 822 हेक्टेयर वन क्षेत्र प्रभावित हुआ है। इसका पर्यावरण पर कितना बुरा असर हो रहा है वो अकल्पनीय है। 

अब सवाल ये उठता है कि-ये आग कैसे लगती है और क्यों बेकाबू भी हो जाती है ?

जंगल में आग लगने के कई कारण होते हैं। गर्मियों के मौसम में गर्म हवा, ज्यादा तापमान के कारण सूखा पड़ना है।  सूखा पड़ने पर तो ट्रेन के पहिए से निकली एक चिंगारी भी आग लगा सकती है, इसके अलावा कभी−कभी आग प्राकृतिक रूप से भी लग जाती है, ज्यादा गर्मी की वजह से पत्तों या टहनियों में घर्षण के कारण या फिर बिजली कड़कने या गिर जाने से भी आग लगती है।आग लगने के मुख्य कारण बारिश का कम होना भी है। जंगलों में आग लगने का सबसे बड़ा कारण इंसानी लापरवाही है। 

इनमे से सबसे महत्वपूर्ण है-मजदूरों द्वारा शहद, साल के बीज जैसे कुछ उत्पादों को इकट्ठा करने के लिए जानबूझकर आग का लगाया जाना और फिर उसे सावधानी से  नहीं बुझाना। 

दूसरा कारण-कैम्पफायर, बिना बुझी सिगरेट फेंकना, जलता हुआ कचरा छोड़ना आदि भी है। 

तीसरा कारण-आस-पास के गाँव के स्थानीय लोगों द्वारा दुर्भावना से आग लगा देना या आग लगने पर तत्काल वन विभाग तक सुचना नहीं पहुँचाना। 

अब लपरवाह तो इंसान है ही अगर नहीं होता तो पर्यावरण की ऐसी हालत नहीं होती मगर स्थानीय लोगों में दुर्भावना क्यों ?

वन कानून जंगलों को दो भागों में बांटता है आरक्षित वन और संरक्षित वन। आरक्षित वनों में शिकार, चराई,पेड़ों की कटाई आदि सहित अनेक गतिविधियों पर प्रतिबंध लगा दिया गया है, जब तक कि कोई  विशिष्ट आदेश जारी नहीं किए जाते हैं और संरक्षित वनों में कभी-कभी जंगल के किनारे पर रहने वाले समुदायों के लिए ऐसी गतिविधियों की अनुमति दी जाती है, जो आंशिक रूप से या पूर्ण रूप से वन संसाधनों या उत्पादों से अपनी आजीविका चलाते हैं।तो जब कुछ समुदाय के लोगों को रोक-टोक के कारण अपनी आजीविका पालन में परेशानियाँ आती है तो गुस्से में वो अपनी ही सम्पदा को आग लगाने का दुष्कर्म कर देते हैं। जबकि वनों को बचाने और पुनर्जीवित करने में सबसे बड़ा योगदान स्थानीय ग्रामीणों का ही रहा  है लेकिन अक्सर वन विभाग उन्हें जंगलों से दूर रखना ही वनों की सेहत के लिये फायदेमंद मानता है। 

पौधों का रोपण और देखभाल एक सामुदायिक एवं आध्यात्मिक गतिविधि है।जो कि जंगल के आस-पास के समुदाय स्वेच्छा से करते थे। वनों को वो देवता समझते थे। लेकिन ये अधिकार उनसे छीन लिया गया और समूचे जगलात को एक महकमे के हवाले कर दिया गया कि ये जंगल का ख्याल रखेंगे। वनों की तुलना में ये महकमा एक तिनके बराबर है वनों के इतने मुद्दे है कि वो एक विभाग के बस की बात नहीं। वैसे तो उत्तराखंड में वन पंचायत ने इस सन्दर्भ में अच्छा काम किया है। मगर यदि अब भी जंगल पर समुदाय का हक़ होता और उन्हें जंगल बचाव कार्य में भागीदार बनाया गया होता तो शायद जंगल की आग की इतनी भयावह स्थिति नहीं होती क्योंकि जंगल उनका घर है और अपने घर को जलता कोई नहीं देख सकता। 

जंगलों की आग से न केवल प्रकृति झुलस रही  है, बल्कि प्रकृति के प्रति हमारे व्यवहार पर भी सवाल खड़ा होता है कि-हम कितने लापरवाह और स्वार्थी हो चुके हैं ? जंगलों में विभिन्न पेड़−पौधे और जीव−जन्तु मिलकर समृद्ध जैवविविधता की रचना करते हैं। पहाड़ों की यह समृद्ध जैवविविधता ही मैदानों के मौसम पर अपना प्रभाव डालती है फिर भी हम नहीं चेत रहें है। दुर्भाग्यपूर्ण है कि ऐसी घटनाओं के इतिहास को देखते हुए भी कोई ठोस योजना नहीं बनाई जाती है। सबसे दुःखद घटना है कि-एक व्यक्ति जिन्हे "वृक्ष-मानव" के नाम से जाना जाता था जिन्होंने अपना सारा जीवन इन जंगलों के नाम कर दिया था,जिनके शब्दों में- "तीन किलो की कुदाल मेरी कलम है,धरती मेरी किताब है,पेड़-पौधे मेरे शब्द है,मैंने इस धरती पर हरित इतिहास लिखा है" ऐसे स्वर्गीय विश्वेश्वर दत्त सकलानी जी के उगाए जंगल का हरित इतिहास भी तेज हवा के साथ उठ रहे दावानल में राख हो गया है।ये हमारे और सरकार दोनों के लिए बड़ी शर्म की बात है। 

पेड़ संस्कृति के वाहक है, प्रकृति की सुरक्षा से ही संस्कृति की सुरक्षा हो सकती है।पेड़−पौधे रहेंगे तो हमारा वजूद रहेगा। उनके नष्ट होते ही मानव सभ्यता का भी पतन हो जायेगा।इसलिए हर नागरिक का धर्म है कि वह वनों की रक्षा और वानिकी का विकास में अपना योग्यदान करें।वन संसाधनों के बेहतर प्रबंधन और संवर्धन से ही हम भावी पीढ़ी का जीवन सुरक्षित रख सकेंगे। हमें अगर जिन्दा रहना है तो प्रकृति से प्रेम करना ही होगा वरना सर्वनाश निश्चित है। सरकार को भी वनों की अवैध कटाई और इस आगजनी की समस्या को गंभीरता से लेना होगा और पिछली गलतियों से सबक लेकर आगे की योजना बनानी होगी। वन विभाग या वन पंचायत को जंगलो के आस-पास के ग्रामीण समुदाय को जागरूक करना होगा उन्हें प्रशिक्षित करना होगा, साथ ही साथ उन्हें ये यकीन भी दिलाना होगा कि -"ये अब भी तुम्हारा ही घर है इसे सहेजना तुम्हरा  कर्तव्य है इससे उतना ही लो जितने से तुम्हारी भी जीविका चले और इसका भी आस्तित्व बना रहें।"  हम अपनी सम्पदा में बढ़ोतरी यदि नहीं कर पा रहें है तो कम से कम जो धरोहर मिली है उसे ही सहेज ले। 


मई महीने के "प्रकृति दर्शन" में मेरा ये लेख प्रकाशित हुआ है। जिस वक़्त लेख लिखा था स्थिति बहुत भयावह थी  उम्मींद थी कि जल्द ही संभल जायेगी मगर, अब तक हालत में कुछ विशेष सुधार नहीं हुआ है ,गर्मी का प्रकोप बढ़ता ही जा रहा है। भगवान सबको सद्बुद्धि दे। 
आपसे एक विनम्र निवेदन है -"संदीप जी प्रकृति संरक्षण के प्रति जागरूकता लाने के लिए प्रयासरत है,एक जागरूक नागरिक के रूप में हमें भी उनका सहयोग करना चाहिए और कुछ नहीं तो लेखन के माध्यम से ही हम इस शुभ कार्य के भागीदार बन जाए "

बुधवार, 4 मई 2022

"मत करो पानी बर्बाद"

  


    मैं दिल्ली महानगर में रहती हूँ (वैसे फ़िलहाल तो मुंबई में हूँ ) यहाँ पानी की जो किल्लत है वो जगजाहिर है । मगर, आज मैं आप सभी से दिल्ली वालों की एक शर्मनाक आदत को साझा करना चाहती हूँ। उनकी सिर्फ़ इस आदत की वजह से मुझे ये कहते हुए बहुत शर्म आती है कि "मैं दिल्ली से हूँ " 

    दिल्ली वाले जितना ज्यादा पानी का रोना रोते हैं उससे कहीं ज्यादा वो पानी की बर्बादी करते हैं।कम से कम मैंने इतनी ज्यादा पानी की बर्बादी कहीं नहीं देखी।आज से 25 साल पहले जब मैं दिल्ली आई थी उस वक़्त लोगों को पानी के लिए परेशान  होते देखती तो बड़ी दया आती थी। हम तो थे बिहार से वहाँ कभी पानी और हवा की किल्ल्त नहीं हुई थी (फिर भी हम पानी, बिजली की बर्बादी नहीं करते थे) तो मेरे लिए ये बड़ी दर्दनाक परिस्थिति थी। मैं बहुत परेशान और दुखी हो जाती थी कि-क्या दिन आ गए है ? लेकिन जैसे-जैसे यहाँ के आबो-हवा को समझने लगी तो लगा इनके साथ जो हो रहा है उसके जिम्मेदार ये खुद है। सप्लाई वाटर (पीने का पानी) की जो ये बर्बादी करते थे (और अभी भी करते हैं ) उसे देख मेरा खून खौल उठता था। कई बार तो पड़ोसियों से कहा-सुनी भी हो जाती। यहाँ के लोग पीने के पानी से ही घर के दरो-दिवार और यहाँ तक कि सड़कों को भी धोते है। कपडे धोने में भी पीने के पानी का यूज ही करते हैं वो भी बहुत लापरवाही से। आप  यकीन नहीं करेंगे जब पानी का टैंकर आता है  तो यहाँ की स्थिति जंग जैसी हो जाती है। जिसका रसूख है वो तो टंकी ही भर लेता है और नहाने-धोने,कपडे धोने,बर्तन धोने तक में यूज़ करता है और जो बेचारा है उसे तो पीने तक को पानी नसीब नहीं होता। इस बात को लेकर कई बार पानी के टैंकर के पास हाथापाई तक होती ही रहती है। आपने अख़बारो में कई बार इस पर ख़बरें पढ़ी  भी होगी। यदि सभी तरीके से सिर्फ पीने के लिए पानी लेते तो एक टैंकर एक मुहल्ले के लिए काफी होता मगर यहाँ ये भावना तो होती ही नहीं है। 

    वर्तमान समय में परिस्थितियाँ बहुत हद तक सुधरी है मगर अभी  भी कई इलाकों में पानी की बहुत ही ज्यादा किल्ल्त है। जिसे पानी मिल रहा है वो दूसरे के दर्द से आँख चुराए हुए है। ऐसा नहीं है कि-उन्हें तकलीफ का अंदाज़ा नहीं बस "आज मेरी जरूरत की पूर्ति हो रही है न, बाकियो से क्या लेना-देना" ये भावना भरी हुई है।जब सप्लाई वाटर आता है तो आप जिधर भी नज़र घुमा ले हर घर के टंकी से पानी ओवर फ्लो होकर गिरता नज़र आएगा आपको। (वैसे केजरीवाल ने फ्री का पानी बिजली देकर लोगों की लापरवाही को और बढ़ावा दे दिया है, पानी बिजली की कीमत तो पहले भी  पता नहीं था अब और सोने-पे-सुहागा हो गया है। उस पर मजे की बात ये कि जो सबसे ज्यादा बर्बादी करते हैं महंगाई का रोना भी सबसे ज्यादा वही रोते हैं  ) ऐसी लापरवाही जैसे कि -पानी का मोटर चला कर सो गए हो। कितनी बार तो अपने पड़ोसियों को फोन कर के मैंने जगाया है और टोका है कि-कितना पानी बर्बाद करते हो आप ? तो जबाव मिलता है- "अरे, क्या हो गया थोड़ा सा पानी गिर गया तो, आप भी न मिसेज सिन्हा ओवर रिएक्ट करते हो"। और जिस दिन पानी नहीं आता है उस दिन सबसे ज्यादा हाय-तौबा मचाने वाले भी वही लोग होते हैं जो पानी की सबसे ज्यादा बर्बादी करते हैं। संग का रंग चढ़ता ही है तो मेरी भाभी भी वैसे ही पानी की बर्बादी करने लगी।रोको-टोको तो वहीं भाषा बोलती जो अक्सर सभी बोलते हैं कि- " एक मेरे ना करने से क्या होगा" एक दिन मेरा पांच साल का भतिजा उन्हें छत पर पानी बिखेरते हुए देख लगभग चीखते हुए उनसे बोला-" सारा पानी तुम लोग ही खत्म कर दो, हमारे बड़े होने तक पानी बचेगा ही नहीं,हम तो प्यासे ही मरेंगे " उसकी इस बात पर मेरी भाभी को अक्ल आईं और उस दिन से उन्होंने पानी बर्बाद नहीं करने की कसम खाई। अपने भतिजे की बातें सुन उस दिन मुझे महसूस हुआ कि- हम बच्चों को क्या सिखायेंगे शायद, अब बच्चें ही हमें सिखाये और जैसे मेरी भाभी को सद्बुद्धि मिली काश, सबको मिल जाए।

    यमुना नदी किचड़ सा बना पड़ा है। पानी के कारण इतनी दुर्दशा होने के वावजूद किसी की आँख नहीं खुल रही। मैं सरकार या प्रशासन से क्यों शिकायत करूं जबकि दोष हमारा है हम ही जागरूक नहीं हो रहें हैं। प्रशासन तो फिर भी जैसे-तैसे पानी की व्यवस्था कर ही रहा। गन्दे पानी को ही कैमिकल प्रोसेस से शुद्धिकरण कर हम तक पहुंचाया जा रहा है। नदी,ताल तलैया सब सूख रहें हैं फिर भी हम जाग नहीं रहें। मेरा अपना अनुभव है कि- जितना बड़ा शहर है वहाँ उतना ही प्रकृति सम्पदा की कमी है और वहाँ के लोग उतना ही ज्यादा लापरवाही से प्रकृति का दोहन कर रहें हैं। गर्मी तेजी से बढ़ती जा रही है और उसी अनुपात में जगह-जगह पानी की किल्ल्त भी होती जा रही है। समुन्द्र के खारे पानी को मीठा बनाने का प्रयोग जल रहा है। यदि हम प्रकृति के प्रति जागरूक नहीं हुए तो एक दिन समुन्द्र तक को पी जाएंगे। लोगों को जागरूक करने के लिए एक बहुत बड़े मुहिम की दरकार तो है ही मगर उससे पहले  हमें खुद को सुधारने की जरूरत ज्यादा है। मेरा मानना है कि-यदि हम जागरूक हो गए तो आधी समस्या का समाधान तो हो ही जाएगा। मैंने स्वयं अपने आस-पास के लोग को टोकते और समझाते हुए सुधारने का प्रयास किया है और बहुत हद तक मुझे सफलता भी मिली है।हमारे छोटे-छोटे प्रयास ही बदलाव लाने में सक्षम है। 

(मेरा ये लेख अप्रैल महीने के प्रकृति दर्शन पत्रिका में आया था )








गुरुवार, 21 अप्रैल 2022

"मेरी पुस्तक का क्लाइमेक्स"





कहते हैं- कलाकारों की दुनिया अक्सर काल्पनिक होती है।वो अपनी कल्पनाओं में ही खुबसूरती का लुभावना जाल बुन ले या बदसुरती का ताना-बाना और फिर उसी में खुद को खोकर सुन्दर सृजन करने की कोशिश करता है। अक्सर ये भी कहते हैं कि- कलाकार बड़े संवेदन शील होते हैं। प्यार- नफ़रत, मिलन-वियोग, दुःख-दर्द आदि संवेदनाओं को महसूस करने की क्षमता उनमें आम लोगों से कही ज्यादा होती है।अर्थात कभी वो कल्पनाओं में खोकर और कभी खुद की भावनाओं को ही वो अपनी लेखनी या कुंजी के द्वारा व्यक्त करते हैं।

"कल्पनाओं की दुनिया" तक तो ठीक है मगर जहाँ तक सच्ची संवेदनाओं की बात है, तो मेरा मन अक्सर ये सवाल करता है कि-

क्याकोई भी चित्रकार या रचनाकार अपनी कृति में अपने मन के सच्चे भावों को ही उकेरता है? क्या, सचमुच उसकी लेखनी या कुंजी समाज का आईना होता है? क्या सचमुच, वो समाज के दर्द और पीड़ा को महसूस कर के ही अपनी भावनाओं को व्यक्त करता है? क्या सचमुच, प्रेम की गहरी अनुभूति या बिछड़ने की टीस को महसूस करके ही अपनी कविता या कहानियों में प्रेम रस उड़ेल पाता है? क्या गरीबी, भुखमरी, मानवता, संवेदना उसके दिल पर गहरे असर कर जाती है और वो तड़प उठता है और उसका दर्द ही उसकी लेखनी या कुंजी के माध्यम से उजागर होता है?
शायद, नहीं। दुनिया में शायद दस प्रतिशत रचनाकार ही होंगे जिनके दिल की सच्ची भावनाएं ही उनकी चित्रकारी या लेखन में समाहित होगी।

हमारे ब्लॉग जगत की नन्ही रचनाकार मनीषा अग्रवाल ने अपनी एक कहानी "निशब्द" में लेखक के दोहरे चरित्र को बड़ी ही खूबसूरती से उजागर किया है।जो कि व्यवहारिकता के धरातल पर सत प्रतिशत सत्य है। अक्सर यही निष्कर्ष निकलता है कि-"ये कलाकार, चित्रकार या साहित्यकार सिर्फ और सिर्फ नाम यश के ही भुखे होते हैं। अपनी कृतियों में झुठी भावनाओं को व्यक्त करते-करते वो कब भावनाहीन हो जातें हैं उन्हें खुद भी पता नहीं चलता। 
मनीषा अग्रवाल की कहानी को पढ़कर मुझे एक सच्ची कहानी याद आ गई जो हमारे हिन्दी के शिक्षक ने सुनाई थी। ये एक सुप्रसिद्ध विदेशी लेखक की कहानी थी समय के साथ मैं उनका नाम और स्थान भुल चुकी हूँ परन्तु विषय-वस्तु अच्छे से याद है।

आज ये कहानी मैं आप सभी से साझा करना चाहती हूँ- बात काफी पुरानी है एक विदेशी लेखक थे जो मानव मनोविज्ञान पर काफी शोध कर उसी विषय पर एक उपन्यास लिख रहें थे।उनका घर छोटा था और शोर-शराबा भी ज्यादा होता था इसलिए वो शहर से दूर एक टुटी-फुटी झोपड़ी में चलें जाते,एक तरह से वो निर्जन स्थान घने जंगल के बीच था, जहाँ कोई भी उनके कार्य में बांधा उत्पन्न नहीं कर सकता था।
उनके उपन्यास की चर्चा मिडिया में जोर-शोर से थी।उनका उपन्यास लगभग पुरा होने को था उन्होंने मिडिया में उसके प्रकाशन की एक निश्चित तारीख भी दे रखी थी मगर किताब का क्लाइमेक्स उनके मन मुताबिक नहीं हो पा रहा था जिसको लेकर वो काफी परेशान थे। कागज़ पर कागज़ भरते और फाड़ते  जाते, प्रकाशन की तारीख नजदीक आती जा रही थी ‌।एक दिन वो अपने गंतव्य की ओर मन ही मन ये सोचते हुए जा रहें थे कि आज किताब की समाप्ति करके ही घर लौटूंगा। उस दिन बहुत तेज बारिश हो रही थी सो घरवालों ने उन्हें जाने से मना भी किया मगर वो अपना रेनकोट पहने और निकल पड़े। अपनी झोपड़ी के करीब पहुंचने ही वाले थे कि उन्हें एक बच्चे के रोने की आवाज आई, उनके कदम ठिठक गए वो सोचने लगे कि इस घने जंगल में बच्चा कहाँ से आ गया। परन्तु, अगले ही पल उन्हें अपने किताब को पुरा करने का ख्याल आ गया और उन्होंने बच्चे के रोने की आवाज को अनसुना किया और झोपड़ी की ओर बढ़ चले। बारिश बहुत तेज होने के कारण झोपड़ी में पानी भर चुका था और सब कुछ गीला हो चुका था। अपने किताब के पन्नो को तो उन्होंने बहुत सम्भाल कर एक बक्से में रखा था सो वह सुरक्षित था।  उन्होंने बक्से से किताब को निकाला और उसी बक्से को पोंछ उस पर अपनें बैठने की जगह बनाई और क्लाइमेक्स लिखने के लिए खुद को एकाग्र करने लगे। तभी तेज़ बिजली कड़की जिसकी आवाज से वो कांप गए और अचानक उन्हें उस बच्चे का ख्याल आ गया।इस ख्याल ने उनकी एकाग्रता छिन ली और उनका मन बच्चे के लिए बेचैन होने लगा। उनके कदम स्वतः ही आवाज की दिशा में बढ़ने लगे।पास जाकर देखा तो एक नवजात शिशु बारिश में भीग रहा है किसी बेरहम ने उस भयानक बरसात में बच्चे को मरने के लिए छोड़ दिया था। लेखक ने झटपट अपने रेनकोट को उतारा और उसमें बच्चे को लपेट कर झोपड़ी की तरफ भागा। बच्चा बुरी तरह भीग चुकी था और अब ठंड के कारण उसकी आवाज भी अब गले में रूध रही थी। झोपड़ी में भी सब कुछ भीगा था और अब तो लेखक भी पुरी तरह भीग चुका था। बच्चे की हालत धीरे-धीरे गंभीर होती जा रही थी ‌। लेखक समझ ही नहीं पा रहा था कि बच्चे को कैसे गरमाहट देकर उसकी जान  बचाएं। क्योंकि लकड़ी से लेकर खरपतवार तक पानी में तर-बतर थे। आखिर वो पल आया जब लेखक को महसूस हुआ कि यदि तत्क्षण बच्चे को गरमाहट नहीं मिली तो वो मर जाएगा। लेखक ने बिना सोच-विचार किए उस झोपडी में एक मात्र सूखी वस्तु अपने किताब के पन्नो को जला-जला कर बच्चे को गरमाहट देना शुरू किया। आखिरी पन्ने के जलते ही बच्चे ने आँखें खोल दीं।तब तक बारिश भी रूक चुकीं थीं और सुरज ने भी अपनी आँखें खोल दी थी। लेखक ने बच्चे को अपने सीने से लगा लिया और घर की ओर चल पड़ा। अगले दिन उसके उपन्यास के प्रकाशन का दिन था। मिडिया वाले उनसे मिलने आए । ये बात भी पहले से चर्चा में था कि लेखक को अपने किताब का क्लाइमेक्स लिखने में ही देरी हो रही है।सो मिडिया वालों का पहला प्रश्न ही यही था कि"क्या आप को अपने किताब का क्लाइमेक्स मिल गया।" लेखक ने बच्चे को अपनी गोद में उठाकर सबको दिखाते हुए कहा- ये है मेरी पुस्तक का क्लाइमेक्स, इसने मुझे मानवता का और मानव मनोविज्ञान का सबसे बड़ा पाठ पढ़ाया है, मेरे जीवन की सर्वोत्तम कृति है ये। फिर उन्होंने अपनी सारी आपबीती सुनाई। ये कहानी मेरे दिल में गहरे छप गई थी मैंने उसी दिन तय किया था जब भी लिखना हुआ  तो सत्य ही लिखूँगी वो चाहे खुद की हो,समाज की हो या संस्कृति और प्रकृति की हो। 

  लेखन समाज से, परिवार से वास्तविकता से विमुख होकर कल्पना जगत में खोकर नहीं होता है वो तो व्यवसाय होता है। सच्चा लेखक वहीं है जो हृदय में उमड़ते सच्ची भावनाओं को कागज पर उकेरे और साथ ही साथ समाज में व्याप्त दुःख दर्द को महसूस कर उसे दूर करने के लिए, समाज में बदलाव लाने के लिए भी प्रयासरत रहें।
 कहते हैं कि कलाकार कल्पनाओं की दुनिया में हक़ीक़त ढुंढने का प्रयास करते हैं और लोगो के हृदय में एक सुखद अनुभूति देना चाहते हैं मगर, कल्पना कल्पना होती है और हक़ीक़त हक़ीक़त । कल्पनाओं में आप दुनिया को ये सपना तो दे सकते हैं कि ये दुनिया इतनी खूबसूरत होती तो क्या कहने? मगर हक़ीक़त में जीकर आप सिर्फ लिखेंगे ही नहीं...बल्कि उसे महसूस करके आप दुनिया में बदलाव भी ला सकते हैं।




"विश्व वानिकी दिवस" के दिन जलता वन

पुरे विश्व में रिश्तें,समाज,पर्यावरण, किसी व्यक्ति विशेष  और यहाँ तक की  बीमारियों को भी याद रखने के लिए एक खास दिन तय किया गया है। मगर,क्या...