बुधवार, 6 अक्तूबर 2021

"दे दो ऐसा वरदान..."

कल से माता रानी का आगमन हो रहा है... 
बस, यही प्रार्थना है... 
"माँ" हम सब को सद्बुद्धि दें...  
हम सिर्फ नौ दिन नहीं...उन्हें हमेशा अपने साथ रख सकें 
***************




 हे! जगजननी करुणामयी माता

 द्वार तुम्हारे आई हूँ। 

अक्षत-रोली, धूप-दीप नहीं

बस,श्रद्धा सुमन संग लाई हूँ।। 


अपने अश्रु की धारा से

तेरे चरण पखारुँगी।

प्रेम-समर्पण की माला से

तेरी छवि सवारुँगी।।


 पूजा की मैं रीत ना जानूँ  

जप-तप का नहीं कोई ज्ञान।

अर्पण तुझको तन-मन माता

मैं ना जानूँ  विधि-विधान।।


धन-वैभव ना सुख अपार

ना माँगू मैं ये संसार।

पावन कर दो आत्मा मेरी

 होगा "माँ" तेरा उपकार।।


ये जग तो है रैन बसेरा 

 पल दो पल का डेरा है। 

 तेरी शरण तक आ पाऊँ 

खोल दो "माँ" हृदय के द्वार।। 


सुख-दुःख तज तेरी हो जाऊँ 

 दे दो, मुझको ऐसा ज्ञान।

अन्तर्मन में तेरी छवि निहारुँ  

दे दो बस, ऐसा वरदान।।।



33 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही सुंदर प्रार्थना, कामिनी दी।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. दिल से शुक्रिया ज्योति जी,सादर नमस्कार

      हटाएं
  2. जी नमस्ते ,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल गुरुवार(०७-१०-२०२१) को
    'प्रेम ऐसा ही होता है'(चर्चा अंक-४२१०)
    पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है।
    सादर

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. मेरी रचना को स्थान देने के लिए हृदयतल से धन्यवाद अनीता जी

      हटाएं
  3. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" पर गुरुवार 07 अक्टूबर 2021 को लिंक की जाएगी ....

    http://halchalwith5links.blogspot.in
    पर आप सादर आमंत्रित हैं, ज़रूर आइएगा... धन्यवाद!

    !

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. मेरी रचना को स्थान देने के लिए सहृदय धन्यवाद सर,सादर नमन

      हटाएं
  4. माँ का आशीर्वाद सब पर बना रहे । खूबसूरत सृजन सखी ।

    जवाब देंहटाएं
  5. सुंदर स्तुति आदरणीय बहुत बधाइयाँ । जय माता की ।

    जवाब देंहटाएं
  6. मातारानी के प्रति सुंदर भावों भरी अभिव्यक्ति ।आपको नवरात्रि पर्व की हार्दिक शुभकामनाएं और बधाई 💐💐

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. दिल से शुक्रिया जिज्ञासा जी, सादर नमन

      हटाएं
  7. पूजा की मैं रीत ना जानूँ

    जप-तप का नहीं कोई ज्ञान।

    अर्पण तुझको तन-मन माता

    मैं ना जानूँ विधि-विधान।।
    नवदुर्गा कघ स्तुति में बहुत ही लाजवाब एवं भावपूर्ण प्रार्थना।
    वाह!!!
    बहुत बहुत शुभकामनाएं नवरात्रि पर्व की।

    जवाब देंहटाएं
  8. दिल से शुक्रिया सुधा जी,सादर नमन

    जवाब देंहटाएं
  9. उत्तम मंगल कामना की अभिव्यक्ति

    जवाब देंहटाएं
  10. सहृदय धन्यवाद सर, स्वागत है आपका

    जवाब देंहटाएं
  11. शुभकामनाएं दीप पर्व की| सुन्दर सृजन |

    जवाब देंहटाएं
  12. उत्तर
    1. आप का ब्लॉग नहीं खुल रहा है शायद कोई तकनीकी समस्या है

      हटाएं
  13. माँ के चरणों में भावपूर्ण नमन ...
    बहुत सुन्दर रचना है ... माँ की कृपा सदा बनी रहे सब पर ...

    जवाब देंहटाएं
  14. bahut achi rachna hai Rahasyo Ki Duniya par aapko India ke rahasyamyi Places ke baare me padhne ko milegi, Rupay Kamaye par Make Money Online se sambandhit jankari padhne ko milegi.
    RTPS Bihar Plus Services RTPS BIHAR Service Apply for Caste Income Residential Certificate

    जवाब देंहटाएं

kaminisinha1971@gmail.com

"वसुधैव कुटुम्बकम "

    भारतीय "हिन्दू संस्कृति" सबसे प्राचीनतम संस्कृति मानी जाती है और इस संस्कृति का मुलभुत सिद्धांत था "वसुधैव कुटुम्बकम &quo...