गुरुवार, 1 अप्रैल 2021

"तू मेरी लाडली"

मेरी बेटी दामिनी को जन्मदिन के उपहार स्वरूप समर्पित 


जूही की कली,मिश्री की डली। 

नाजों में पली,तू मेरी लाड़ली।। 


चन्दा से मुखडें पे,सूरज सा तेज़ है। 

कोमल तन और निर्मल सा मन है।।  

आँखों में तेरे है,सपने सुहाने। 

सितारों पे घर बनाने की रण है।। 

पंख है छोटे,ऊंची उड़ान है। 

हौसले बुलंद और दिल में उमंग है।। 


तेरे ही सपने है, आँखों में मेरे। 

लो,मैं भी चली हूँ संग-संग  तेरे।। 

तू आगे चल,मैं तेरे पीछे खड़ी हूँ। 

जग से नहीं,मैं तो रब से लड़ी हूँ।।  


मुश्किल सफर है, गिरने का डर है। 

गम नहीं, हाथ थामे तेरे जनक है।। 

 सफल होगी तपस्या हमारी। 

मिलेगी मंजिल मनचाही तुम्हारी।। 


कीचड़ में भी कमल बन खिलना। 

आत्मनिर्भर मगर,सुसंस्कृत नारी तू बनना।। 

तू मेरा मान,तू स्वाभिमान,

तू ही तो है मेरी जान लाडली।। 


ये मेरी दुआ है...  

आयेगा एक दिन, जब.... 

हर माँ के दिल का अरमान,

बहनों का अभिमान,

तू बनेगी देश की पहचान लाड़ली।। 


जूही की कली,मिश्री की ढ़ली। 

नाजों में पली,तू मेरी लाड़ली।। 

तू मेरी लाडली..... 





53 टिप्‍पणियां:

  1. प्रिय कामिनी, भावों से भरा सृजन। आज तो सारी ममता शब्दों में भरकर निर्झर सी बहा दी सखी। प्रिय मनु को जन्म दिन की ढेरों स्नेहाशीष। वो यशस्वी और चिरंजीवी हो यही दुआ और कामना है--
    मेरी ओर से मनु के लिए
    चुन अपना आकाश लाडली
    पंख पसार उड़ जाओ तुम,
    भले कठिन पर नहीं असंभव
    तारों से आँख मिलाओ तुम!!
    पुनः जन्म दिन मुबारक
    🎂🎂🎂🎂🎂
    ❤❤❤❤❤
    🌹🌹🌹🌹🌹
    💐💐💐💐💐
    तुम्हारी रचना बहुत प्यारी है सखी
    दामिनी के सपनों को खुला आकाश मिले। तुम्हें ढेरों बधाईयाँ सखी। 🌹🌹

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. "चुन अपना आकाश लाडली
      पंख पसार उड़ जाओ तुम,
      भले कठिन पर नहीं असंभव
      तारों से आँख मिलाओ तुम!!"

      मेरी कविता से कई गुना सुंदर तुम्हारी ये दुआएं है। तुम्हरे शब्दों ने मेरी कविता को मुकम्मल कर दिया।
      तुम्हारी असंख्य दुआओं के लिए मैं शुक्रिया कहकर तुम्हारे प्यार के मान को कम नहीं करुँगी सखी,मनु तुम्हारी भी बेटी है।
      तुम्हारा स्नेह अनमोल है सखी

      हटाएं
  2. प्रिय कामिनी, भावों से भरा सृजन। आज तो सारी ममता शब्दों में भरकर निर्झर सी बहा दी सखी। प्रिय मनु को जन्म दिन की ढेरों स्नेहाशीष। वो यशस्वी और चिरंजीवी हो यही दुआ और कामना है--
    मेरी ओर से मनु के लिए
    चुन अपना आकाश लाडली
    पंख पसार उड़ जाओ तुम,
    भले कठिन पर नहीं असंभव
    तारों से आँख मिलाओ तुम!!
    पुनः जन्म दिन मुबारक
    🎂🎂🎂🎂🎂
    ❤❤❤❤❤
    🌹🌹🌹🌹🌹
    💐💐💐💐💐
    तुम्हारी रचना बहुत प्यारी है सखी
    दामिनी के सपनों को खुला आकाश मिले। तुम्हें ढेरों बधाईयाँ सखी। 🌹🌹

    जवाब देंहटाएं
  3. प्रिय दामिनी को शुभाशीष । हर मंज़िल करीब है जब माता पिता का साथ और आशीर्वाद है ।
    तुंहरी हर दुआ कवच बन उसे आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करेगी ।
    ममत्व से भरपूर रचना ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी आशीर्वचनों अनमोल है दी,आपके स्नेह ने मुझे जो ख़ुशी दी है उसे शब्दों में वया करना मुश्किल है,आपका स्नेह बना रहे यही कामना करती हूँ
      क्षमा चाहती हूँ कुछ कारण वश समय पर आभार भी प्रकट नहीं कर पाई। सादर नमन दी

      हटाएं
  4. कीचड़ में भी कमल बन खिलना।
    आत्मनिर्भर मगर,सुसंस्कृत नारी तू बनना।।
    तू मेरा मान,तू स्वाभिमान,
    तू ही तो है मेरी जान लाडली।।
    इतनी सुन्दर सीख और ममत्व प्रेम से भरी आशीष और ढ़ेर सारी दुआएं जिस लाडली को मिलेंगी उसे सफल होने से कोई नहीं रोक सकता कामिनी जी!
    प्रिय दामिनी को जन्मदिन की ढ़ेर सारी शुभकामनाएं प्यार एवं आशीर्वाद... आपको भी बहुत बहुत बधाई।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आप सभी का आशीर्वाद मेरी दामिनी के लिए कवच का काम करेगा,आपकी दुआएं उसके मार्ग को निष्कंटक करेगी।
      आपके स्नेह के लिए नतमस्तक हूँ सुधा जी,देरी के लिए क्षमा चाहती हूँ ,सादर नमन

      हटाएं
  5. ममत्व प्रेम से भरी ढ़ेर सारी दुआएं
    दामिनी को जन्मदिन की ढ़ेर सारी शुभकामनाएं💐💐💐

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत-बहुत धन्यवाद संजय भाई,आप सभी के स्नेह से अभिभूत हूँ

      हटाएं
  6. सादर नमस्कार,
    आपकी प्रविष्टि् की चर्चा शुक्रवार ( 02-04-2021) को
    "जूही की कली, मिश्री की डली" (चर्चा अंक- 4024)
    पर होगी। आप भी सादर आमंत्रित हैं।
    धन्यवाद.


    "मीना भारद्वाज"

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. वात्सल्य भाव से आपूरित लाजवाब कृति । कामिनी जी बिटिया को स्नेहाशीष💐 एवं आपको उसके जन्मदिन की बहुत बहुत बधाई💐💐

      हटाएं
    2. मेरी रचना को स्थान देने के लिए दिल से शुक्रिया मीना जी,आपका स्नेह और आशीर्वाद अनमोल है,शुक्रिया कहकर मान कम नहीं करुँगी,आपका साथ और स्नेह बना रहें यही कामना है। सादर नमन

      हटाएं
  7. प्रिय दामिनी बिटिया को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं 💐💐💐💐💐💐
    ममता के रस से भरी ,सुंदर रचना सखी कामिनी जी ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपके स्नेह से अभिभूत हूँ शुभा जी,अनमोल है आपका आशीर्वाद,सादर नमन आपको

      हटाएं
  8. बहुत बहुत सुन्दर सराहनीय मधुर रचना । शब्द शब्द मैं मन के भीतर बसा समस्त संचित स्नेह भी और पल पल अनगिनत भावी सपनों में डूबी ममता भी । बिटिया को बहुत बहुत हार्दिक शुभ कामनाएं स्नेह सिक्त आशीष ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपका आशीर्वाद मिल गया लिखना सार्थक हूँ ,आपके आशीर्वाद और स्नेह के लिए हृदयतल से आभारी हूँ सर,सादर नमन आपको

      हटाएं
  9. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति।
    मनोभावों का अच्छा समावेश किया है आपने।
    अन्तर्राष्ट्रीय मूर्ख दिवस की बधाई हो।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सराहना के लिए हृदयतल से आभारी हूँ सर,सादर नमन आपको

      हटाएं
  10. बिटिया को जन्मदिन की अशेष शुभकामनाएं
    फूलों सी खिले आपकी बिटिया,जीवन के समस्त सुख उसकी झोली में हो।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपके आशीर्वाद के लिए हृदयतल से आभारी हूँ सखी,सादर नमन आपको

      हटाएं
  11. बिटिया को जन्मदिन की अनंत शुभ और स्नेहिल आशीष प्रिय कामिनी जी।
    एक माँ के हृदय में उमड़ती अनुभूति जो शब्द से परे महसूस की जा सकती है।
    ममत्व से भरी हर पंक्ति आपके आशीष से भीगी हुई है।

    सस्नेह
    सादर।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. एक माँ ही माँ के स्नेह और ममत्व को समझ सकती है ,आपकी दुआएं मेरी बेटी के लिए कवच बन जाएगी।
      आपका आशीर्वाद और स्नेह अनमोल है श्वेता जी,प्रतिक्रिया देने में देरी के लिए क्षमा चाहती हूँ।

      हटाएं
  12. दामिनी जी को जन्मदिन की ढेरों शुभकामनाएँ। वात्सल्य भाव से ओतप्रोत रचना के लिए आपको बधाई।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सहृदय धन्यवाद वीरेंद्र जी,आपके आशीर्वचनो के लिए आभारी हूँ।

      हटाएं
  13. एक माँ का बेटी के लिए सबसे प्यारा और सुंदर उपहार है यह रचना। बिटिया को बहुत बहुत आशीष, जन्मदिन की कोटि कोटि शुभकामनाएँ और प्यार।
    कविता की एक एक पंक्ति में माँ के दिल की भाव विह्वलता को महसूस किया जा सकता है।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. ये कविता नहीं थी बस हृदय से निकले कुछ भाव थे जिसका मर्म आप सभी ने समझा और लिखना सार्थक हुआ। मुझे पूर्ण विश्वास है आपका स्नेह और आशीर्वाद मेरी दामिनी के मार्ग के अवरुद्ध को दूर करेगी। आपका स्नेह यूँ ही बना रहें यही कामना है मीना जी

      हटाएं
  14. बिटिया को जन्मदिवस पर ढेर सारा स्नेह आशीर्वाद। आह्लादित करता सराहनीय सृजन बिटिया के जन्मदिवस पर आपके द्वारा कामिनी दी।
    ...

    आत्मनिर्भर मगर,सुसंस्कृत नारी तू बनना।।
    तू मेरा मान,तू स्वाभिमान,
    तू ही तो है मेरी जान लाडली।।
    हार्दिक बधाई एवं ढेरों शुभकामनाएँ 🎉🎉🎂🎂🎉🎉

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रिय अनीता तुम्हारी दुआओं के लिए हृदयतल से आभारी हूँ बहन,अपनी की दुआ अनमोल होती है

      हटाएं
  15. क्यों तुम चिंतित से लगते
    हो, बेटी जीत दिलाएगी !
    विदुषी पुत्री जिस घर जाए
    खुशिया उस घर आएँगी !
    कर्मठ बेटी के होने से ,
    बड़े आत्म विश्वासी गीत !
    इसके पीछे चलते चलते,जग सीखेगा,जीना मीत !

    ॐ सर्व मंगल मांगल्ये
    शिवे, सर्वार्थ साधिके !
    शरण्ये त्रयम्बके गौरि
    नारायणी नमोस्तु ते !
    दोनों कर श्रद्धा से जोड़े,
    पुत्रि वन्दना करते गीत !
    बेटी गरिमामयी रहेगी, आशीर्वाद भेजते गीत !

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आदरणीय सतीश जी,आपके एक-एक शब्द ने मेरी आँखें नम कर दी,आपने एक माँ की हृदय में उमड़ते एक-एक भाव को पढ़ लिया।
      मैं निशब्द हो चुकी हूँ ,आपकी दुआओं के लिए आभार व्यक्त कर इसका मोल कम नहीं कर सकती,परन्तु एक माँ का हृदय आपको सत-सत नमन करता है। आपका आशीर्वाद मेरी बेटी को "गरिमामयी" जरूर बनाएगी अब पूर्ण विश्वास हो गया है। बड़ों की दुआएं ही तो बच्चों के लिए ढाल बनती है और उनके मार्ग को निष्कंटक करती है। आप सभी की दुआएं मेरी बेटी को उसकी मंजिल तक जरूर पहुँचाएगी। सत-सत नमन आपको

      हटाएं
    2. सचमुच प्रिय सखी | सतीश जी के ये स्नेहिल उदगार हर माँ के उमड़ते भाव हैं | बहुत बहुत भावपूर्ण लिखा है सतीश जी ने जिसके लिए कोई भी प्रशंसा और आभार कम है | |

      हटाएं
    3. बिलकुल सही कहा तुमने सखी

      हटाएं
  16. बहुत सुंदर भावनात्मक रचना...

    दामिनी जी को जन्मदिन पर हार्दिक शुभकामनाएं 🌹🙏🌹

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. मेरी बेटी को आशीर्वाद देने के लिए दिल से शुक्रिया वर्षा जी,प्रतिक्रिया में देरी के लिए क्षमा चाहती हूँ

      हटाएं
  17. बहुत सुंदर कृति ममता से परिपूर्ण, बिटिया को जन्म दिन की ढेरों शुभकामनाएं

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपके आशीर्वचनों के लिए दिल से शुक्रिया भारती जी,प्रतिक्रिया में देरी के लिए क्षमा चाहती हूँ

      हटाएं
  18. बिटिया को जन्मदिवस की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं।
    माँ की ममता और आशीर्वाद से भरी बहुत ही बेहतरीन रचना सखी 👌👌👌👌

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. दिल से शुक्रिया सखी,आपकी दुआओं के लिए हृदयतल से आभारी हूँ ,प्रतिक्रिया में देरी के लिए क्षमा चाहती हूँ

      हटाएं
  19. अनमोल उपहार है प्यारी बिटिया के लिए । हार्दिक आशीर्वाद है कि वह सदैव महकती रहे ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. दिल से शुक्रिया अमृता जी ,आपकी दुआओं के लिए हृदयतल से आभारी हूँ

      हटाएं
  20. कामिनी दी,जिस बेटी को आप जैसी माँ मिली हो, उसका भविष्य तो सुनहरा ही होगा। बहुत बहुत शुभकामनाएं बिटिया को।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपके आशीर्वचनों के लिए दिल से शुक्रिया ज्योति जी,माँ की दुआओं से भी बढ़कर पंच की दुआ होती है,तभी तो कहते हैं "पंच के मुख में परमेश्वर का वास होता है,आप सभी का आशीर्वाद मिला मैं धन्य हुई। प्रतिक्रिया में देरी के लिए क्षमा चाहती हूँ

      हटाएं
  21. सबसे पहले तो आप सभी से हाथ जोड़ क्षमा मांगती हूं, आप सभी ने इतने स्नेह से मेरी बेटी को ढेर सारी दुआएं दी और मैं आपका आभार भी नहीं व्यक्त कर पाईं,इन दिनों मैं ऐसी जगह पर थी जहां नेटवर्क की बहुत समस्या थी, इसलिए आप का शुक्रिया भी अदा नहीं कर पाईं. आप सभी के स्नेह ने इतना आह्लादित कर दिया है कि मैं निशब्द हो गई हूं, बस हाथ जोड़ कर नमन करती हूं, तहेदिल से शुक्रिया..

    जवाब देंहटाएं
  22. बिटिया को जन्मदिन की ढेरों बधाई हो, शुभाषीश के साथ, जूही की कली मिश्री की डली , बहुत ही प्यारी रचना उपहार स्वरूप बिटिया को दी और हम सब से भी सांझा की, हार्दिक शुभकामनाएं, हार्दिक आभार कामिनी जी ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपके आशीर्वचनों के लिए दिल से शुक्रिया ज्योति जी,आप सभी का स्नेह मिला लिखना सार्थक हुआ। प्रतिक्रिया में देरी के लिए क्षमा चाहती हूँ

      हटाएं
  23. बिटिया को जन्मदिन की ढेरों बधाई। सुंदर भावनात्मक रचना..

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. मेरे ब्लॉग रूपी घर में आपका दिल से स्वागत है सर,आपके बारे में सिर्फ सुन रखा था,आज आपके आगमन से इतनी खुश हूँ की शब्दों में वया नहीं कर सकती।
      आपका आशीर्वाद मिल गया लेखन सार्थक हुआ। ये कविता नहीं बस माँ की भावनाएं है त्रुटियों को क्षमा करेंगे। सादर अभिवादन आपका

      हटाएं
  24. जूही की कली,मिश्री की ढ़ली।
    नाजों में पली,तू मेरी लाड़ली।।
    तू मेरी लाडली.....
    अपनी पुत्री हेतु माँ का वात्सल्य अत्यंत ही मार्मिक रूप में उभर आया है आपकी रचना में।
    बेटी को ढेर सारा प्यार, आशीष व उसके सफल जीवन की शुभकामनाओं सहित आपको भी बधाई।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपके स्नेहिल आशीर्वाद एवं शुभकामनाओं के लिए तहे दिल से शुक्रिया पुरुषोत्तम जी,सादर नमन आपको

      हटाएं
  25. A good informative post that you have shared and thankful your work for sharing the information. I appreciate your efforts. this is a really awesome and i hope in future you will share information like this with us. Please read mine leave me alone quotes

    जवाब देंहटाएं
  26. कितना सुंदर है वो दृश्य ।
    कुछ प्रतिबिम्बित,कुछ अदृश्य ।।
    नाजों से पली,मां की लाडली ।
    फूलों की कली और मिश्री की डली ।।
    बन के रंग बिरंगी तितली ।।
    हंसते,खेलते,धीरे धीरे,नन्हें कदमों से चलके,
    मां के अरमानों की डोर थामे,आसमान छू ली ।।....
    बेटी के जन्मदिन की ढेरों ढेर शुभकामनाएं और आशीर्वाद ।।
    ...बहुत सुंदर भावपूर्ण, ममत्व से भरी सुंदर रचना लिखी है अपने कामिनी जी, सस्नेह जिज्ञासा सिंह ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. मेरी रचना को परिपूर्ण करती आपकी सुंदर पंक्तियों ने भावविभोर कर दिया मुझे

      मेरी बेटी के लिए स्नेह से भरे आपके आशीर्वाद एवं शुभकामनाओं के लिए तहे दिल से शुक्रिया जिज्ञासा जी,सादर नमन

      हटाएं

kaminisinha1971@gmail.com

"एक और ज़िन्दगी"

  कहते हैं "शरीर मरता है मगर आत्मा अमर होती है" और वो बार-बार नई-नई पोषक पहनकर पृथ्वी पर आना-जाना करती ही रहती है। इसे ही जन्म-मरण...