गुरुवार, 25 मार्च 2021

"होली के फूल"



 ये रंगीन फूल मुबारक तुम्हे हो

ये ख्वाबों की होली मुबारक तुम्हे हो। 


ख़ुशी के रंगों से रंगी है- ये दुनिया

तेरे सपनो के रंगो से सजी है-ये दुनिया। 

इस प्रिय पहर में दो खग यूँ मिले है, 

जैसे एक ही डाली पर दो सुमन खिले है। 

मेरे दिल की लाली मुबारक तुम्हे हो।। 

मेरे ख्वाबों की होली..... 


प्रेम पिचकारी में दिल के रंगों को घोल 

दिल ये कहता है,तुमसे भी होली खेलूं । 

तेरी सारी पोशाकों को रंगों से रंग दूँ, 

तेरे गालों-ललाटों पे गुलालों को मल दूँ। 

मेरे प्यार की रोली मुबारक तुम्हे हो।।  

मेरे ख्वाबों की होली-----


काश !तुमसे मैं होली में मिल पाती 

मगर, ये होली अधूरी ना होगी 

मेरे शब्दों के छीटों से खुद को रंग लेना 

हो सकें तो, इन रंगों को मुझको भी देना। 

संग-प्रीत की ठिठोली मुबारक तुम्हे हो।। 

मेरे ख्वाबों की होली मुबारक तुम्हे हो -----



आप सभी को होली  की हार्दिक शुभकामनायें 

60 टिप्‍पणियां:

  1. दिल मायूस हो तो त्यौहार भी सकून नहीं दे पाते

    जवाब देंहटाएं
  2. सादर नमस्कार,
    आपकी प्रविष्टि् की चर्चा शुक्रवार ( 26-03-2021) को
    "वासन्ती परिधान पहनकर, खिलता फागुन आया" (चर्चा अंक- 4017)
    पर होगी। आप भी सादर आमंत्रित हैं।
    धन्यवाद.


    "मीना भारद्वाज"

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. मेरी रचना को स्थान देने के लिए हृदयतल से धन्यवाद मीना जी, सादर नमन

      हटाएं
  3. वाह! सुंदर!! होली मुबारक सपरिवार!!!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सहृदय धन्यवाद आपका, आपको भी होली की हार्दिक शुभकामनाएं एवं सादर नमस्कार

      हटाएं
  4. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना शुक्रवार २६ मार्च २०२१ के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं।
    सादर
    धन्यवाद।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. मेरी रचना को स्थान देने के लिए हृदयतल से धन्यवाद श्वेता जी

      हटाएं
  5. होली के रंग में रँगी प्रेम पगी सुन्दर अभिव्यक्ति।

    जवाब देंहटाएं
  6. मेरे शब्दों के छीटों से खुद को रंग लेना
    हो सकें तो, इन रंगों को मुझको भी देना।

    सुंदर सृजन...
    बधाई

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. दिल से शुक्रिया वर्षा जी, सादर नमस्कार

      हटाएं
  7. होली हो या कोई भी त्यौहार यदि आपके प्रिय आपसे दूर हों तो ऐसे भाव मन में उठाने स्वाभाविक हैं ...

    लेकिन कमाल है न कि तुम तो शब्दों के ही रंग से खेल रही होली ...दुआ है होली अधूरी न रहे ... सस्नेह ... होली की शुभकामनाएँ

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपने सही कहा दीदी त्योहार भी अपनो के साथ ही भाता है, आप का दिल से शुक्रिया एवं सादर नमस्कार

      हटाएं
  8. होली के रंग भेज दिये भेज दिये शब्दों के संग.

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. दिल से शुक्रिया दी,सादर नमस्कार आपको

      हटाएं
  9. उत्तर
    1. दिल से धन्यवाद ज्योति जी, सादर नमस्कार

      हटाएं
  10. उत्तर
    1. दिल से शुक्रिया दी,आपकी उपस्थिति हो गई तो लिखना सार्थक हुआ,सादर नमस्कार

      हटाएं
  11. वाह ! इस विधा में भी लेखनी कमाल कर रही है । हार्दिक शुभकामनाएँ ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सहृदय धन्यवाद आपका,बस आप सभी के स्नेह का असर है,सादर नमन आपको

      हटाएं
  12. रंगों की ये भावपूर्ण होली काम‍िनी जी...आपने क्या खूब ख‍िलाई...मन को भाई...वाह होली की हार्द‍िक शुभकामनायें

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपके मन को भाई तो लिखना सार्थक हुआ, सुंदर और स्नेहिल प्रतिक्रिया के लिए हृदयतल से धन्यवाद,आपको भी होली की हार्दिक शुभकामनाएं

      हटाएं
  13. काश !तुमसे मैं होली में मिल पाती

    मगर, ये होली अधूरी ना होगी

    मेरे शब्दों के छीटों से खुद को रंग लेना

    हो सकें तो, इन रंगों को मुझको भी देना।

    संग-प्रीत की ठिठोली मुबारक तुम्हे हो।।

    मेरे ख्वाबों की होली मुबारक तुम्हे हो -


    शानदार कविता....

    साधुवाद 🙏

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. दिल से शुक्रिया वर्षा जी, सादर नमस्कार

      हटाएं
  14. इस सुंदर होलीमय प्रस्तुति के लिए आपको बहुत-बहुत बधाई। सहज शब्दों वाला यह सृजन बहुत बढ़िया लगा।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सहृदय धन्यवाद आपका,बस एक छोटा सा प्रयास था, आप सभी को अच्छा लगा तो लिखना सार्थक हुआ

      हटाएं
  15. बेहतरीन प्रस्तुति।
    होली की अग्रिम शुभकामनाएँ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सहृदय धन्यवाद सर, आपको भी होली की हार्दिक शुभकामनाएं

      हटाएं
  16. मेरे शब्दों के छीटों से खुद को रंग लेना
    हो सकें तो, इन रंगों को मुझको भी देना।
    संग-प्रीत की ठिठोली मुबारक तुम्हे हो।।

    वाह!!!
    बहुत सुंदर होली गीत...
    होली की अग्रिम शुभकामनाएं कामिनी जी 🌹🙏🌹

    जवाब देंहटाएं
  17. दिल से धन्यवाद शरद जी, आपको भी होली की हार्दिक शुभकामनाएं

    जवाब देंहटाएं
  18. काश !तुमसे मैं होली में मिल पाती

    मगर, ये होली अधूरी ना होगी
    मेरे शब्दों के छीटों से खुद को रंग लेना
    हो सकें तो, इन रंगों को मुझको भी देना।
    संग-प्रीत की ठिठोली मुबारक तुम्हे हो।।
    मेरे ख्वाबों की होली मुबारक तुम्हे हो ----
    बहुत खूब प्रिय कामिनी!! किसी बहुत विशेष के लिए मन का ये विकल संवाद मर्म को छूता है सखी।
    प्रेमिल भावों से मालामाल तुम्हारी काव्य अभिव्यक्ति का तीसरा कदम तुम्हें मुबारक हो। होली के रंग अपनों संग खूब खिलें और महकें सखी। खूब खुश रहो, और प्रेम के रंगों से सराबोर रहो। मेरा हार्दिक स्नेह और शुभकामनाएं ❤❤🌹🌹💐💐

    जवाब देंहटाएं
  19. तुम्हारी दुआ काम आ गई सखी और मैंने जिस प्रिय के लिए ये लिखा था मैं उसके पास आ गई, तुम्हारी प्रशंसा और तुम्हारी दुआ के लिए हृदयतल से धन्यवाद सखी, तुम्हें भी पुरे परिवार के साथ होली की हार्दिक शुभकामनाएं

    जवाब देंहटाएं
  20. बहुत सुंदर, मन में उतर जाने वाली रचना है यह आपकी कामिनी जी । आपको तथा आपके प्रियजनों को होली की हार्दिक शुभकामनाएं । केवल शब्दों के नहीं, जीवन के वास्तविक सुहाने रंगों में आप भी रंगें और वे भी जो आपके अपने हैं ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आप के स्नेहिल शुभकामना के लिए हृदयतल से धन्यवाद जितेंद्र जी, सादर नमस्कार

      हटाएं


  21. ये रंगीन फूल मुबारक तुम्हे हो

    ये ख्वाबों की होली मुबारक तुम्हे हो। , बहुत सुंदर रचना ख़्यालो की होली के प्यारे से रंग, आदरणीया शुभकामनाएँ ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सहृदय धन्यवाद मधुलिका जी, आपको भी हार्दिक शुभकामनाएं एवं नमन

      हटाएं
  22. आपकी लिखी कोई रचना  सोमवार 29 मार्च 2021 को साझा की गई है ,
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं।
    सादर
    धन्यवाद।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. मेरी रचना को स्थान देने के लिए हृदयतल से धन्यवाद दी, सादर नमस्कार

      हटाएं
  23. बहुत ही खूबसूरत रचना है कामिनी जी, बहुत बहुत बधाई हो, रंगोत्सव की हार्दिक शुभकामनाएं आपको, शुभ प्रभात, नमन 👌👌👋👋

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. दिल से शुक्रिया ज्योति जी, सराहना हेतु हृदयतल से आभार एवं सादर नमस्कार

      हटाएं
  24. प्रिय कामिनी जी,
    आपके होली के फूलों की ख़ुशबू एक बार फिर लेने आ गई हूं आपकी सुंदर, दिलचस्प पोस्ट पर...

    मेरे इन दोहों के माध्यम से रंगपर्व की शुमकामनाएं स्वीकार कीजिए....

    माथे पर टीका लगे, गालों लाल गुलाल।
    होंठों पर मुस्कान हो,मन का मिटे मलाल।।

    ‘‘वर्षा’’ हो सद्भाव की, बहे ख़ुशी की धार।
    तभी सार्थक हो सके, होली का त्यौहार।।

    आपको सपरिवार होली की हार्दिक शुभकामनाएं 🙏
    सस्नेह,
    डॉ. वर्षा सिंह

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. वर्षा’’ हो सद्भाव की, बहे ख़ुशी की धार।
      तभी सार्थक हो सके, होली का त्यौहार।।
      आप की ये दुआ कबूल हो यही कामना करती हूं
      आप के स्नेह के लिए तहेदिल से शुक्रिया वर्षा जी

      हटाएं
  25. मेरे ख्वाबों की होली मुबारक हो
    शानदार पंक्तियां
    मन में बसी पीड़ा जब उभरती है तो
    इसी तरह के भाव उपजते हैं
    मन में बसे प्रेम की सुंदर अभिव्यक्ति
    अच्छी रचना
    बधाई

    होली की हार्दिक शुभकामनाएं

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. दिल से धन्यवाद सर, आप की उपस्थिति हुई तो लिखना सार्थक हुआ, सादर नमस्कार

      हटाएं
  26. फूलों और शब्दों से खेली जाने वाली अनोखी होली के लिए आपको बहुत बहुत शुभकामनायें ! सुंदर भावपूर्ण रचना !

    जवाब देंहटाएं
  27. दिल से शुक्रिया अनीता जी,सादर नमन

    जवाब देंहटाएं
  28. प्रेम और प्रकृति के सुन्दर भावों से सजी प्रेम रस में पगी सुन्दर रचना ...
    होली की मस्ती छलक रही है जैसे शब्दों से ...

    जवाब देंहटाएं
  29. रंगों और मधुर भावों से सराबोर प्रेमगीत,आपको होली की हार्दिक शुभकामनाएं एवम बधाई ।

    जवाब देंहटाएं
  30. मेरे शब्दों के छीटों से खुद को रंग लेना
    हो सकें तो, इन रंगों को मुझको भी देना।
    बहुत ही लाजवाब होली मुबारक गीत
    वाह!!!

    जवाब देंहटाएं
  31. बहुत ही खूबसूरत रचना है कामिनी जी,

    जवाब देंहटाएं

kaminisinha1971@gmail.com

"एक और ज़िन्दगी"

  कहते हैं "शरीर मरता है मगर आत्मा अमर होती है" और वो बार-बार नई-नई पोषक पहनकर पृथ्वी पर आना-जाना करती ही रहती है। इसे ही जन्म-मरण...